छपरा: फाईलेरिया और कालाजार से बचाव के प्रति जागरूक करेंगी “जीविका दीदी”

0
  • पीसीआई के आरएमसी ने दिया ट्रेनिंग
  • 20 सितंबर से चलेगा सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम
  • घर-घर जाकर खिलायी जायेगी दवा

छपरा: जिले में कालाजार व फाईलेरिया उन्मूलन को लेकर विभाग प्रतिबद्ध है। फाईलेरिया उन्मूलन को लेकर जिले में 20 सितंबर से सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम अभियान चलाया जायेगा। इस अभियान के तहत घर-घर जाकर आशा कार्यकर्ता दवा खिलाएंगी। अभियान के सफलता को लेकर जन-जागरूकता पैदा करना जरूरी है। इस जागरूकता अभियान में अब जीविका दीदी भी अपना सहयोग देंगी। इसको लेकर सोमवार को बनियापुर प्रखंड में पीसीआई के आरएमसी संजय यादव के द्वारा जीविका के मोबलाइजरों को प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान जीविका बीपीएम रेखा कुमारी और पीसीआई आरएमसी ने कहा कि अपने एसएचजी मीटिंग के दौरान सभी लोगों को फाईलेरिया व कालाजार से बचाव व विभाग द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रमों के बारे में जानाकरी दें। इसके साथ हीं फाईलेरिया उन्मूलन के प्रति गांवों में लोगों को जागरूक करें ताकि अधिक से अधिक लोगों को अभियान के दौरान दवा खिलाया जा सके। जिले में फाईलेरिया उन्मूलन में स्वास्थ्य विभाग के साथ सहयोगी संस्था भी अपना योगदान दे रही है। इसमें केयर इंडिया, पीसीआई और सीफार के प्रतिनिधि शामिल है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

सामुदायिक स्तर पर फाइलेरिया के प्रति किया जायेगा जागरूक

सिविल सर्जन डॉ. जेपी सुकुमार ने बताया कि 20 सितंबर से सर्वजन दवा सेवन का चक्र 14 दिनों का होगा। जिसमें कोविड के प्रोटोकॉल के तहत कटोरी मेथड से दवा खिलायी जाएगी। जिसमें दवा को कटोरी में आशा रख देगी और लोगों को सामने में वह गोली खानी होगी। उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा फाइलेरिया मरीजों का मुफ्त इलाज एवं आर्थिक सहायता भी दी जाती है। एक टीम एक दिन में 40 से 50 घरों का दौरा कर लक्षित समूह को सिर्फ दवा ही वितरण नहीं करेगी बल्कि उन्हें अपने सामने दवा खिलाएंगे। अभियान के दौरान प्रतिदिन छूटे हुए व्यक्तियों को पुर्नभ्रमण कर दवा खिलाई जाएगी। इसके अतिरिक्त 7 वें एवं 14 वें दिन पूर्ण रूप से पुर्नभ्रमण करते हुए छूटे हुए सभी लोगों को दवा खिलाई जाएगी। इसके अलावा जीविका कार्यकर्ता, स्कूली बच्चे एवं पंचायत सदस्यों द्वारा सामुदायिक स्तर पर फाइलेरिया एवं एमडीए के विषय में जागरूकता भी फैलाई जाएगी।

ऐसे खानी है दवा

इस अभियान में डीईसी एवं एलबेंडाजोल की गोलियाँ लोगों की दी जाएगी। 2 से 5 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी की एक गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली, 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी की दो गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली एवं 15 वर्ष से अधिक लोगों को डीईसी की तीन गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली दी जाएगी। एलबेंडाजोल का सेवन चबाकर किया जाना है। अभियान के छठे और 14वें दिन छुटे हुए लोगों को दवा खिलाई जाएगी।

ये होंगे लक्षित समूह

हर व्यक्ति को इन दवाओं का सेवन करना है। केवल गर्भवती महिलाओं, दो साल से कम उम्र के बच्चों एवं गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को यह दवा सेवन नहीं करनी है। दो साल से पांच साल तक के बच्चे भी फाइलेरिया दवाओं का सेवन कर सकते हैं और स्वास्थ्य कर्मी की निगरानी में ही दवा का सेवन करना है।