चिराग के चचेरे भाई की अग्रिम जमानत पर 20 सितंबर को होगा फैसला

0

पटना: दुष्कर्म मामले में आरोपित बनाए गए लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के सांसद प्रिंस राज की अग्रिम जमानत याचिका पर सभी पक्षों को सुनने के बाद दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। अब सोमवार को तय हो जाएगा कि प्रिंस राज को अग्रिम जमानत मिलेगी या फिर उन्हें जेल जाना पड़ सकता है, क्योंकि युवती से दुष्कर्म का मामला है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ad-mukhiya

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट के विशेष न्यायाधीश एमके नागपाल सोमवार को इस पर अपना फैसला सुनाएंगे। बृहस्पतिवार को प्रिंस राज की याचिका का विरोध करते हुए दिल्ली पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की अदालत से मांग की थी। राउज एवेन्यू कोर्ट के विशेष न्यायाधीश एमके नागपाल के समक्ष पुलिस ने कहा था कि शिकायर्तकर्ता के दावे के तहत आपत्तिजनक कंटेंट वाले वीडियो को बरामद करने के लिए प्रिंस को हिरासत में लेने की जरूरत है।

वहीं, प्रिंस की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता विकास पाहवा व अधिवक्ता नितेश राणा ने पुलिस की दलील का विरोध करते हुए दावा किया था कि यह मामला हनी-ट्रैप व वसूली से जुड़ा है। प्रिंस राज ने नौ सितंबर को दुष्कर्म मामले में एफआइआर दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी पर सुरक्षा की मांग करते हुए अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि शिकायतकर्ता महिला अपने एक साथी के साथ मिलकर उनसे रुपये वसूल करने के लिए झूठा आरोप लगा रही है। इतना ही नहीं शिकायकर्ता व उसका पुरुष मित्र वर्ष 2020 से प्रिंस राज को ब्लैकमेल करके वसूली कर रहे हैं।

उन्होंने यह भी दावा किया पीड़िता ने उनसे एक करोड़ रुपये की मांग की थी और ऐसा नहीं करने पर झूठा मुकदमा दर्ज कराने की धमकी भी दी थी। इस संबंध में दस फरवरी को संसद मार्ग थाने में इस संबंध में एक एफआइआर दर्ज हुई थी और दोनों को अग्रिम जमानत मिली थी।