कोविड-19 टीकाकरण को लेकर तैयार की गयी संवाद नीति, वाट्सएप से किया जायेगा जागरूक

0
  • टीकाकरण के दौरान सोशल मीडिया पर विशेष निगरानी
  • जागरूकता फैलाने में धर्मगुरूओं की होगी सहभागिता
  • अंतिम चरण में है टीकाकरण की तैयारी

छपरा: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया जाना है। इसकी तैयारियां अंतिम चरण में पहुंच चुकी हैं। ऐसे में टीकाकरण से पहले विभाग ने अफवाहों को लेकर अलग से खास रणनीति तैयार की है। इसके तहत अफवाहों से बचने के लिए व्हाट्सएप के जरिए सरकार ने लोगों तक सही जानकारी पहुंचाने की योजना बनाई है। ब्लॉक से लेकर जिला और राज्य से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक के लिए अलग-अलग संचार योजनाओं को बनाया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोविड-19 टीका संचार रणनीति को साझा किया है। यह किसी मिथक या गलत अवधारणा की वजह से टीके की सुरक्षा और प्रभाव संबंधी आशंकाओं के चलते टीका लगवाने में ‘झिझक’ जैसी समस्या का समाधान करने पर भी केंद्रित है। रणनीति टीकाकरण कार्यक्रम के दौरान संभावित जोखिम के बारे में सूचना देने तथा किसी अवांछित संकट को कम करने पर भी केंद्रित है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

टीकाकरण की हर सही जानकारी पहुंचाने की बनाई योजना

टीकाकरण के दौरान सोशल मीडिया पर खास तरह की निगरानी होगी। फेसबुक और व्हाट्सएप के ज्यादातर इस्तेमाल को लेकर विभाग सतर्क हैं। स्कूल, पंचायत, स्थानीय नेता और आरडब्ल्यूए के समूह को लेकर प्रशासन सही जानकारी भेजने का कार्य करेगा। सरकार के हर संदेश पर एक लोगो भी होगा जिससे उसकी विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा न हो सके।

टीकाकरण के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे धर्मगुरू

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार टीकाकरण अभियान में सभी धर्मगुरुओं को भी साथ लाने और जनता के बीच जागरूकता बढ़ाने का फैसला भी लिया है। संचार रणनीति में सरकार ने स्पष्ट किया है कि टीकाकरण के दौरान या उससे पहले किसी भी तरह की अफवाह या भ्रांति के खिलाफ सच्चाई रखना प्रशासन की जिम्मेदारी है।

गलत सूचना और अफवाहों से निपटने की तैयारी

जारी गाइडलाइन में बताया गया है कि रणनीति पारदर्शिता के जरिए कोविड-19 टीके में लोगों का विश्वास पैदा करने तथा इससे संबंधित किसी गलत सूचना और अफवाहों से निपटने पर भी केंद्रित है। इस उद्देश्य को मंत्रालय तीन तरह से हासिल करना चाहता है जिसमें सामाजिक प्रभाव या विशेषज्ञों का समर्थन, राष्ट्रीय मीडिया त्वरित प्रतिक्रिया प्रकोष्ठ स्थापित कर इसकी मदद लेने तथा सामुदायिक गतिशीलता एवं अग्रिम पंक्तियों के कर्मियों की मदद लेना शामिल है।

टीका लगने के बाद पालन करना होगा कोविड अनुरूप व्यवहार

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी निर्देश में कहा गया है कि कोविड-19 का टीका लगने के बाद भी कोविड अनुरूप व्यवहारों का पालन करना आवश्यक होगा। सभी मास्क का उपयोग, शारीरिक दूरी का पालन, हाथों की धुलाई, सेल्फ आईसोलेशन जैसे नियमों का पालन करना होगा।

जिलास्तर पर सोशल मीडिया की होगी मॉनिटरिंग

कोविड-19 टीकाकरण के दौरान जिलास्तर पर गठित टास्क फोर्स टीम के द्वारा सोशल मीडिया जैसे- वाट्सअप, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम आदि मॉनिटिरिंग की जायेगी। यह देखा जायेगा कि कोविड-19 वैक्सीन को लेकर किस तरह का पोस्ट या मैसेज शेयर हो रहा है। गलत मैसेज को तुरंत रिस्पांड किया जायेगा तथा सही जानकारी उपलब्ध करायी जायेगी। प्रखंस्तर पर प्रखंड स्तरीय टास्क फोर्स की मीटिंग में सोशल मीडिया की निगरानी की जायेगी।