बेखौफ बदमाशों ने ASI और मुखिया की गोली मारकर हत्या कर दी….एक घायल

0

पटना के बाढ़ में पिछली देर रात बेखौफ बदमाशों ने शनिवार देर रात पंडारक पूर्वी पंचायत के नव निर्वाचित मुखिया गोरेलाल यादव और पुलिस ASI की गोली कर हत्या कर दी है. वहीं बदमाशों ने एक अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल कर दिया है. इसके बाद घायल को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है. बताया जा रहा है कि बदमाशों ने घटना को अंजाम एक शादी समारोह के दौरान दिया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

जानकारी के अनुसार मुखिया गोरेलाल शनिवार रात को शादी समारोह में शामिल होने के लिए बाढ़ के वाजितपुर स्थित एक मैरेज हॉल में आया था. रात करीब 11 बजे जयमाल के समय मोटरसाइकिल से दो बदमाश आए और मुखिया पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. फायरिंग में मुखिया, समारोह में शामिल पंडारक थाने के ASI राजेश कुमार और ग्रामीण लालबाबू को गोलियां लगी। बादमाशों ने 12 राउंड से अधिक फायरिंग की। वहीं गोली चलने से वहां अफरा-तफरी मच गई. आनन-फानन में तीनों को स्थानीय अस्पताल ले जाया गया. वहां से प्राथमिक उपचार के बाद लोग उन्हें पटना के पत्रकार नगर थाना क्षेत्र स्थित राजेश्वरी अस्पताल ले आए, जहां मुखिया और ASI की मौत हो गई।

देर रात तक घटना के कारणों का पता नहीं चला था, लेकिन चर्चा है कि चुनावी रंजिश में वारदात को अंजाम दिया गया है. वहीं घटना की सूचना मिलते ही बाढ़ ASP समेत कई थाने की पुलिस राजेश्वरी अस्पताल पहुंची. इसके अलावा घटनास्थल पर भी पुलिस पहुंची और छानबीन की. देर रात तक पुलिस वहां कैंप कर रही थी।

बताया जा रहा है कि बदमाशों ने शादी समारोह में ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें लगभग 12 राउंड गोलियां चलने की बात सामने आई है. इसमें 3 को गोली लगी है. आनन-फानन में इलाज के लिए पटना के राजेश्वर हॉस्पिटल लोगों को भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने 2 लोगों को मृत घोषित कर दिया. वहीं तीसरे का इलाज चल रहा है।

मुखिया के भाई ने बताया कि चुनाव में हार के चलते चुनावी रंजिश पाले पूर्व मुखिया ने फायरिंग करवायी है. इसमें वर्तमान मुखिया गोरेलाल यादव और जमादार की मौत हुई है. वहीं शादी समारोह में गोलियों की तड़तड़ाहट और चीख पुकार ने खुशियो के माहौल को गम में बदल दिया. पूरा इलाका दहसत में है. हालांकि मृतक के भाई ने बताया कि इस घटना के पीछे चुनाव में मिली हार है के बाद पूर्व मुखिया गोरेलाल यादव को पपलु और उदय पहलवान ने शपथ ग्रहण से पहले ठिकाने लगाने की बात कही थी. फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुट गई है।