जिले में “फिट इंडिया साइक्लोथॉन कैंपेन” की हुई शुरुआत

0
  • अधिकारियों व अन्य चिकित्सकों ने भी लिया कैम्पेन में भाग
  • साइकिल चला कर फिट रहने के लिए लोगों को किया गया प्रेरित
  • साइक्लिंग करने से हड्डी व मांसपेशियां होती हैं मजबूत, कई रोगों से मिलता हैं छुटकारा

छपरा: वैश्विक महामारी कोविड-19 से बचाव के लिए आमजनमानस में शारिरिक तंदुरुस्ती के महत्व को बढ़ावा देने, उसके प्रचार-प्रसार करने एवं दैनिक जीवन में साइकिल के उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार फिट इंडिया साइक्लोथाॅन कैंपेन की शुरुआत जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर की गई। रविवार को आयोजित साइकिल अभियान में स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ ही दर्जनों अन्य लोगों को रवाना किया गया। जिला के विभिन्न प्रखंडों के सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर साइक्लोथाॅन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने जिलेवासियों को “फिटनेस की डोज-आधा घंटा रोज” स्लोगन के साथ स्वास्थ्यकर्मियों ने साइकिल चला कर लोगों को फिट रहने का संदेश देने के साथ ही स्वस्थ्य रहने के लिए साइकिल चलाने के प्रति प्रोत्साहित भी किया हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

फिट इंडिया साइक्लोथॉन कैंपेन

साइकिल चला कर फिट रहने के लिए लोगों को किया गया प्रेरित

फिट इंडिया साइक्लोथॉन कैंपेन 1 1

जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीसी रमेश चन्द्र कुमार ने बताया कि साइकिल चला कर कई रोगों से बचा जा सकता हैं। साइकिलिंग करना भी एक तरह का व्यायाम है जिसे चलाने के लिए पैडल का इस्तेमाल किया जाता है जिससे पिंडली व जांघों की मांसपेशियों को मजबूत मिलती है। बच्चों को नियमित रूप से साइकिल कराने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इससे उनकी हड्डी और मांसपेशियां स्वस्थ रहती हैं। यह शरीर को लचीला बनाता है। साइकिल चलाने से मनुष्य का ह्रदय स्वास्थ्य रहता है। वहीं मधुमेह जैसी बीमारियों को नियंत्रित करने में साइकिलिंग करना बहुत ज्यादा कारगर साबित होता है।सुबह में प्रतिदिन कम से कम आधा घण्टा साइकिलिंग करते हैं तो शारिरिक बनावट के साथ ही ऊर्जा को भी बढ़ाने में काफ़ी मददगार होता है। मानसिक रूप से तनावग्रस्त रहने वाले को तनावमुक्त करने में भी मददगार साबित है। नियमित साइकिलिंग करने से फैटी शरीर भी कम होता है और वजन को नियंत्रित रखने में काफ़ी मदद करता है।

साईकिल चलाने से कई रोगों से मिलता हैं छुटकारा

सीएस डॉ माधवेश्वर झा ने बताया की इस अभियान को सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर आयोजित किया गया है। इस तरह के आयोजन करने से लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव हो रहा हैं। आधा घण्टा रोज साइकिलिंग करने से विभिन्न तरह के रोग जैसे मधुमेह, कोलेस्ट्राॅल, दिल की बीमारी सहित कई अन्य रोगों से बचा जा सकता हैं।

सामान्य कार्यों के लिए साईकल का करें प्रयोग

सीएस ने बताया कि लोगों को प्रतिदिन कम से कम आधा घण्टा ही सही लेकिन साईकिल चलाना व पैदल चलना जैसे शरीरिक व्यायाम किया बहुत ही जरूरी है। घर के आसपास दो या तीन किलोमीटर के दायरे में सुबह सवेरे साइक्लिंग करने से पूरे शरीर को ऊर्जा पैदा करने के साथ ही दिन भर थकान या आलस जैसा मन नही होता हैं। लोगों को अगर अपने भागमभाग वाली जिंदगी से प्यार है तो मोटरसाइकिल का इस्तेमाल कम से कम करें और सामान्य रूप के विभिन्न कार्यों के लिए साइकिल का प्रयोग जरूर करें। बहुत कम जरूरी होने पर पैदल चलने को आदतों को शुमार कर सकते है।

लोगों को मिलेगा फिट-इंडिया का ई-सर्टिफिकेट

फिट इंडिया साइक्लोथाॅनकैम्पेन का आयोजन कर कम से कम 10 सेकेंड का वीडियो बनाकर फिट इंडिया पोर्टल पर भी अपलोड करने के लिए भी कहा गया है। क्योंकि वीडियो अपलोड करने के बाद ई-सर्टिफिकेट निर्गत भी किया जाता हैं। प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट तक साइकिल चलाने से दिल का मजबूत होना, मस्तिष्क में नई कोशिकाओं का बढ़ना और आपकी याददाश्त अन्य लोगों की तुलना में 15 प्रतिशत तक बढ़ सकती है।