गोपालगंज: जिले में चलेगा स्वस्थ “जीविका दीदी” अभियान, 30 वर्ष से अधिक उम्र के परिवार के सदस्यों का बनेगा फैमिली फोल्डर

0
  • पोपुलेशन बेस्ड मास स्क्रीनिंग की जायेगी
  • प्रत्येक सोमवार, बृहस्पतिवार एवं शनिवार को कैम्प का होगा आयोजन

गोपालगंज: जिले में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर एनसीडी कार्यक्रम के तहत स्वस्थ जीविका दीदी अभियान चलाया जायेगा। अभियान के तहत शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं उप स्वास्थ्य केंद्र के कार्यक्षेत्र में ग्रामीण विकास विभाग, बिहार सरकार अंतर्गत जिला स्तरीय “जीविका” इकाई के अधीन कार्यरत संकुल क्षेत्र संघ के कार्यालय पर कैम्प के माध्यम से जीविका दीदी एवं “स्वयं सहायता समूह की प्रत्येक सदस्य एवं उनके परिवार जनों के लिए “स्वस्थ जीविका दीदी” अभियान के तहत गतिविधियों का संचालन कराना सुनिश्चित किया जायेगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जिला स्वास्थ्य समिति बीएचएम एवं बीसीएम तथा प्रखंड परियोजना प्रबंधक, “जीविका की यह संयुक्त जवाबदेही है कि जीविका के क्लस्टर र फेडेरेशन कैम्प स्थल पर आवश्यक व्यवस्था, आशा एवं जीविका दीदी एवं उनके परिवार जनों की उपस्थिति सुनिश्चित करायेंगे तथा प्रत्येक सोमवार, बृहस्पतिवार एवं शनिवार को कैम्प स्थल की गतिविधियों का पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण कर उससे संबंधित प्रतिवेदन संबंधित प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के माध्यम से जिला स्वास्थ्य समिति, गैर संचारी कोषांग को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

प्रत्येक सोमवार, बृहस्पतिवार एवं शनिवार को कैम्प का होगा आयोजन

आशा द्वारा अपने पोषक क्षेत्र में उक्त अभियान के तहत प्रत्येक सोमवार, बृहस्पतिवार एवं शनिवार को कैम्प के माध्यम से “जीविका दीदी एवं “स्वयं सहायता समूह के प्रत्येक सदस्य एवं उनके घरों में रहने वाले प्रत्येक परिवारों का फैमिली फोल्डर एवं उस परिवार के 30 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्तियों का सी-बैक फार्म पूर्ण रूप से भरा जाना है। आशा द्वारा पूर्ण रूपेण भरे हुए फैमिली फोल्डर एवं सी-बैक प्रपत्रों के आधार पर 10/- दस रुपये प्रति सी-बैक प्रपत्र की दर से आशा को प्रोत्साहन राशि का भुगतान राज्य स्तर पर अश्विन पोर्टल के माध्यम से किया जाना है। पोपुलेशन बेस्ड मास स्क्रीनिंग की जायेगी भारत सरकार द्वारा वर्ष 2021-22 में एनसीडी कार्यक्रम के तहत पोपुलेशन बेस्ड स्क्रीनिंग के तहत 30 वर्ष से अधिक आयु के कुल 9426212 व्यक्तियों की एनसीडी स्क्रीनिंग का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसके विरुद्ध माह अप्रैल से जून 2021 में कुल 106439 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की गई है जो कि लक्ष्य का मात्र 1.13% ही है। कोरोना की वर्तमान स्थिति के मद्देनजर कार्यहित में पोपुलेशन बेस्ड स्क्रीनिंग के सफल क्रियान्वयन के लिए जिलों में इसे त्वरित गति प्रदान करने के उद्देश्य से शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य एवं उप स्वास्थ्य केंद्र के कार्यक्षेत्र में उपरोक्त गतिविधियों का संचालन एक विशेष अभियान स्वस्थ जीविका दीदी के माध्यम से प्रारम्भ कराया जाना है।

स्वस्थ्य जीवन शैली के लिए किया जायेगा प्रेरित

कैम्प स्थल पर आशा द्वारा उपलब्ध कराये गये सी-बैक पत्रों में अंकित सूचनाओं के डिजिटाइजेशन का कार्य संबंधित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर नियुक्त डाटा इन्ट्री ऑपरेटर एएनएम के द्वारा किया जाना है। डिजिटाइजेशन के उपरान्त सभी संबंधित व्यक्तियों का एएनएम-सीएचओ के द्वारा उच्च रक्तचाप, मधुमेह,सामान्य कैंसर की स्क्रीनिंग कराई जाती है। जो जीविका दीदी एवं उनके परिवार के सदस्य स्वस्थ्य (उच्च रक्तचाप, मधुमेह एवं कैंसर का स्तर सामान्य) पाये जायेंगे, उन्हें प्राधिकृत सीएचओ / चिकित्सा पदाधिकारी के स्तर से स्वस्थ्य जीवन शैली के लिए प्रेरित किया जायेगा।

टेली मेडिसिन के माध्यम से मिलेगी चिकित्सीय परामर्श

स्क्रीनिंग में पाये गये संदेहास्पद लक्षणों वाले मरीजों से संबंधित सूचना को एएनएम द्वारा ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन के माध्यम से चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराएगी तथा आवश्यकतानुसार मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप के उपचार संबंधी निर्धारित ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल के अनुरूप आवश्यक औषधि कम-से-कम एक माह की भी दी जानी है। साथ ही उन्हें अनिवार्य रूप से स्वस्थ जीवनशैली के लिए सलाह भी उपलब्ध कराई जानी है। आवश्यकतानुसार नजदीकी अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र- वेलनेस सेन्टर / प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर रेफर भी किया जा सकता है। गैर संचारी रोग के ऐसे रोगी, जिनका उपचार से हो रहा हो, का प्रत्येक छ माह पर फालोअप आशा के द्वारा किया जाना है। इसके लिए आशा को प्रत्येक फालोअप के लिए 50/- रुपये की प्रोत्साहन राशि का भुगतान किया जाना है।