गोपालगंज:- विकास के दावे की पोल खोल रही है दियरा के गांवों की गरीबी : आसिफ गफूर

0
  • गोपालगंज से महागठबंधन प्रत्याशी ने कई गांवों में किया सैकडों लोगों से संवाद
  • बुर्जुग मतदाताओं को माला पहना कर सम्मानित कर रहे हैं आसिफ गफूर
  • गोपालगंज के हालात बदलने के लिए लोगों से अपने पक्ष में मतदान की अपील

गोपालगंज: गोपालगंज विधानसभा क्षेत्र से महागठबंधन से कांग्रेस के उम्मीदवार आसिफ गफूर ने कई गांवों में सैकडों लोगों से धुंआधार जनसंपर्क किया. जिस गांव में आफिस गफूर जा रहे हैं, अनेक लोग उनका स्वागत कर रहे हैं. युवा सेल्फी ले रहे हैं. आसिफ गफूर बुर्जुगों को माला पहना कर उनका मान सम्मान बढ रहे हैं. आसिफ गफूर जागरुक जनता के बीच शिक्षा, चिकित्सा और बाढ की समस्या जैसे मुद्दे पर प्रमुखता से बात कर कह इसे ठीक करने की बात कह रहे हैं. आसिफ गफूर ने कहा कि उन्होंने जिले के दियरा क्षेत्र का व्यापक भ्रमण किया है. सरकारी विकास के दावों को यहां की गरीबी पोल खोल रही है. दियारा क्षेत्र के गरीब लोगों के बच्चों के तन पर कपडें नहीं है. सरकार बाढ राहत के लिए क्या कर रही है. दियरा के नौनिहाल बिहार के भविष्य है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

सरकार नौनिहालों के भविष्य के प्रति कब तक लापरवाह रहेगी.
आफिस गुफूर ने कहा कि जिले के कॉलेजों में सैकडों विद्यार्थियों को साल इस लिए बर्बाद हो जाता है क्योंकि यहां का सत्र अनियमित हो जाता है. इसकी जवाबदेही किसकी है. जिले के सदर अस्पताल में कोई सीरियस मरीज जाता है तो उसका इलाज करने के बजाय तुरंत गोरखपुर या पटना के लिए रेफर कर दिया जाता है. उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद आम जनता अपनी रोजी रोजगार में लग जाती है. वह सरकार से मिलने वाली सुविधाओं के इंतजार में रहती है. लेकिन जिम्मेदार लोग अपनी जिम्मेदारी से भाग कर केवल अपने के लिए और अपने खास लोगों के लिए काम करते कराते हैं. इसलिए गोपागलंज के इस हालात को बदलना है.

सड़क निर्माण कार्यों में जमकर भ्रष्टाचार

कांग्रेस प्रत्याशी आफिस गफूर ने कहा कि उन्होंने कई गांवों में जनसंपर्क के दौरान यह देखा कि कई गांव की सड़कें बदहाल हैं. सडकों में अभी भी बरसात तो कही नाले का पानी जमा हुआ है. नाले का निर्माण ठीक ठंग से नहीं हुआ है. उसमें जमकर भ्रष्टाचार हुआ है. इस सबका खामियाजा आम जनता भुगत रही है. उन्होंने कहा कि गोपागलंज विधानसभा क्षेत्र में एक ही व्यक्ति 15 साल से विधायक होने के बाद वह कोई मजबूत काम नहीं कर पाये, जिससे जिले को गर्व हो. आसिफ गफूर ने लोगों से जनसंपर्क में अपने लिए एक बार पांच साल का मौका देने का आग्रह कर अपने पक्ष में मतदान की अपील की.