देशी रंग, गुलाल व पिचकारी के साथ मनेगी इस बार की होली

0

परवेज अख्तर/सिवान :-होली का उत्सव धार्मिक और सामाजिक दृष्टि से बहुत हीं महत्व रखता
है। होली जहां एक ओर पौराणिक और धार्मिक त्योहार है, वहीं यह रंगों का
सामाजिक त्योहार भी है। कोराेना वायरस का असर इसबार होली के त्योहार पर
साफ दिख रहा है। शहर के कुछ दुकानों को छोड़कर बाजार से चाइना मेड आइटम
गायब हो गए है। इसबार देशी पिचकारी से रंगोें की बारिश होगी। साथ हीं
देसी गुलाल व रंग लोगों के चेहरे पर लगेंगे। पिचकारी से लेकर बैलून तक,
बाल से लेकर मास्क सभी पूरी तरह देसी बाजारों से आए हैं।
आज होगा होलिका दहन, उड़ेंगे अबीर गुलाल :
बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार व रंगों का महापर्व होली 10 मार्च को
मनाई जाएगी। उत्सव से एक दिन पहले होलिका की पूजा और फिर दहन किया जाता
है, जिसे समाज के लिए महत्वपूर्ण माना जाता रहा है। जिला मुख्यालय व
प्रखंंड क्षेत्रों में सोमवार की रात शुभ मुहूर्त में सैकड़ों स्थानों पर
होलिका दहन होगा। इसे लेकर प्रमुख चौराहों पर तैयारियां जारी है। अगले
दिन मंगलवार को होली पर स्वांग रचाए लड़के सड़कों पर नाचते-गाते धूम
मचाएंगे। फागुनी बयार में लोग विविध रंग उड़ाएंगे। शहर के प्रमुख स्थान
मालवीय चौक, बबुनिया मोड़, श्रीनगर, ललित बस स्टैंड, सब्जी मंडी, स्टेशन
रोड, रामनगर समेत विभिन्न चौक-चौराहों पर होलिका दहन का त्योहार धूमधाम
से मनाया जाएगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal