गृह भ्रमण कर बच्चों के बीच सुधा दूध वितरण करने का निर्देश

0
  • सुधा दूध से बच्चों में दूर होगा कुपोषण की समस्या
  • आईसीडीएस के अनुश्रवण पदाधिकारी ने पत्र लिखकर दिया निर्देश
  • 20 अगस्त तक वितरण करने के निर्देश

छपरा: कोरोना काल में भी बच्चों के बेहतर पोषण पर ध्यान दिया जा रहा है। जिले में आंगनबाड़ी सेविका के माध्यम से सुधा दूध का पाउडर घर-घर जाकर वितरित किया जा रहा है। दूध पाउडर में मौजूद पोषक तत्व बच्चों को कुपोषण मुक्त एवं सेहतमंद बनाने में पूर्व से ही महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है। इसको सुदृढ करने के लिए आईसीडीएस के अनुश्रवण पदाधिकारी सुगंधा शर्मा ने पत्र लिखकर सभी डीपीओ और सीडीपीओ को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। जारी पत्र में बताया गया है कि ऐसी सूचना प्राप्त हो रही है कि कई केंद्रों पर सुधा का दूध उपलब्ध लेकिन वितरण नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में 20 अगस्त तक नियमानुसार गृह भ्रमण कर दूध का वितरण करने और इसका प्रतिवेदन 21 अगस्त को शाम 4 बजे तक निदेशालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 7.27.12 PM
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

घर-घर जाकर कर रहीं दूध का वितरण

ग्रामीण इलाकों में कुपोषण की दर में कमी लाने के लिए 03 से 06 साल के बच्चों को 150 ग्राम दूध पिलाने का प्रावधान किया गया है। कॉम्फेड द्वारा सुधा दुग्ध पाउडर की आपूर्ति की जा रही है। बच्चों में प्रोटीन की कमी को दूर करने के लिए इस कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है।कोरोना संक्रमण के कारण आंगनवाड़ी केंद्र बंद होने से आंगनबाड़ी सेविका द्वारा घर- घर जाकर सुधा दूध पाउडर का वितरण किया जा रहा है। प्रत्येक बच्चे को 18 ग्राम दूध पाउडर 150 मिलीलीटर शुद्व पेयजल में घोलकर पिलाने का प्रावधान किया गया है।

कुपोषण को दूर करने में माताओं की भूमिका अहम

आईसीडीएस के डीपीओ वंदना पांडेय ने बताया स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है. इसीलिए बेहतर समाज के निर्माण के लिए यह आवश्यक है कि हमारी इस पीढ़ी को अच्छा पोषण मिले और वह सुरक्षित रहे। सभी माताओं का यह दायित्व है कि बच्चों में कुपोषण की समस्या को दूर करने के लिए साफ सफाई बरती जाए, नियमित रूप से खाने से पहले व खाने के बाद हाथ धोया जाए, शौचालय करने के बाद हाथ पैर धोया जाय। कुपोषण की समस्या तभी दूर हो सकती है जब बच्चों को स्वच्छता से पूर्ण माहौल मिलेगा।

कोरोना वायरस की रोकथाम को जागरूकता

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर बचाव की जानकारी लोगों को जागरूक दे रही हैं। इसमें पोषण के विभिन्न सूत्रों पर जागरूकता के साथ कोरोना वायरस संक्रमण से बचने की भी सलाह भी दी जा रही है।

  • अपने हाथों को साबुन और पानी से बार-बार धोएं या अल्कोहल आधारित हैण्ड वाश, सेनेटाइजर का उपयोग करें
  • खांसने, छींकने, खाना पकाने से पहले, पकाने के दौरान एवं बाद में, खाना खाने से पहले एवं शौचालय के बाद हाथों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ़ करें
  • छींकते एवं खांसते समय अपना मुँह ढककर रखें
  • अपनी आँखों, नाक और मुँह को बार-बार छूने से बचें
  • अगर किसी व्यक्ति को खाँसी या बुखार हो तो निकट सम्पर्क में जाने से बचें
  • किसी बड़े समारोह एवं आयोजन में भाग लेने से बचें
  • व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ-साथ सार्वजनिक स्थलों की साफ़-सफाई रखें
  • घर से बाहर निकलते समय मास्क का उपयोग जरूर करें
  • एक दूसरे से दो गज की दूरी रखें
  • सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से बचें