साहेब हुसैन निर्मम हत्याकांड: …और मां लैला को क्या पता मेरे लख्ते जिगर ने मुझे ठुकरा कर..!

0
  • कहीं साड़ी फोल्डिंग के दौरान माशूका के प्रेम जाल में तो नहीं फंस गया था मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन ! या सेठ के बकाया पैसे को लेकर तो नहीं करा दी गई उसकी बेरहमी से पीट पीट व गोली मार हत्या, पुलिस कर रही है दो बिंदुओं पर अनुसंधान
  • मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन के पिता मोहम्मद अलाउद्दीन के तहरीर के आधार पर पुलिस ने की अज्ञात अपराधियों के विरुद्ध हत्या की प्राथमिकी दर्ज
  • 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस को नहीं मिला हत्या कांड में सुराग
  • घटना के 2 दिन बाद भी सदमे से नहीं उबर पा रहे हैं परिजन
  • परिजनों के हृदय विदारक चित्कार से पूरा गांव शोकाकुल
  • दुल्हन साड़ी सेंटर के नाम से सारण के जनता बाजार में मशहूर था मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन का दुकान
  • मां लैला को क्या पता मेरे लख्ते जिगर ने मुझे ठुकरा कर जिंदगी के उस दहलीज पर ले जाकर खड़ा कर देंगे,जहां मेरी रिमझिम आंखों के आंसू के कतरे ही सूख जाएंगे

परवेज़ अख्तर/सिवान:- जिले के भगवानपुर थाना क्षेत्र के मुंदीपुर गांव निवासी सह चर्चित कपड़ा व्यवसाई मोहम्मद साहेब हुसैन ( 22 वर्ष) की निर्मम हत्याकांड मामले में पुलिस ने उसके पिता मोहम्मद अलाउद्दीन के लिखित तहरीर के आधार पर अज्ञात अपराधकर्मियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर मामले की अनुसंधान प्रारंभ कर दी है।लेकिन घटना के 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस इस कांड के किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची है।उधर अनुसंधान प्रभावित होने के कारण इस मसले पर पुलिस कुछ भी बताने से साफ- साफ इंकार कर रही है। इस घटना को लेकर मृतक के पैतृक गांव से लेकर सारण के जनता बाजार तक ऐसी चहुओर चर्चाएं खूब हो रही है कि कहीं साड़ी फोल्डिंग के दौरान माशूका के प्रेम जाल में तो नहीं फंस गया था मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन ! या सेठ के बकाया पैसे को लेकर तो नहीं करा दी गई उसकी बेरहमी से पीट पीट व गोली मार हत्या ! यहां बताते चले कि जिस तरह से मोहम्मद साहेब हुसैन को अपराधियों ने बेरहमी से पीट-पीटकर व गोली मारकर निर्मम हत्या कर डाली गई है।उसके शव को देखने से ऐसा प्रतीत हो रहा था कि कहीं न कहीं मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन के प्रति बड़े पैमाने पर घटना को अंजाम देने वालों में आक्रोश था।जिस आक्रोश को लेकर अपराधियों ने उसे पहले बेरहमी से खूब पिटाई की बाद में उसके शरीर के ऊपरी हिस्से में गोली दाग उसे मौत की नींद सुला दी गई।हालांकि सूत्र बताते हैं कि पुलिस मृतक के मोबाइल नंबर इकट्ठा कर कई पहलू पर भी अनुसंधान प्रारंभ कर दी है।उधर महाराजगंज एसडीपीओ पोलस्त कुमार का कहना है कि इस हत्याकांड को लेकर विभिन्न तरह से तकनीकी अनुसंधान भी की जा रही है।जल्द ही जल्द इसका खुलासा कर लिया जाएगा।उधर घटना के 2 दिन बाद भी मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन के परिजन इस घटना को लेकर सदमे से नहीं उबर पा रहे हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

मृतक के बड़े भाई सिराजुद्दीन दूसरा भाई अजहरुद्दीन तथा सबसे छोटा भाई साहेब जमाल का रोते-रोते बुरा हाल हो चुका है।मृतक के तीन बहनें क्रमशः शमा खातून,रूबी खातून तथा राब्बेया खातून भी दहाड़ मार रो बिलख रही है।घटना के बाद से मृतक की मां लैला बेबी का रोते-रोते बुरा हश्र हो चुका है।मां लैला को क्या मालूम कि मेरे नौजवान लख्ते जिगर ने मुझे ठुकरा कर जिंदगी के उस दहलीज पर ले जाकर खड़ा कर देंगे।जहां मेरी रिमझिम आंखों के आंसू के कतरे ही सूख जाएंगे।यहां बताते चले कि शनिवार की देर संध्या सारण के जनता बाजार अवस्थित दुल्हन साड़ी सेंटर के प्रोपराइटर मोहम्मद साहेब हुसैन जो अपनी दुकान प्रत्येक दिन की भांति बंद कर अपने घर लौट रहा था कि इसी बीच भगवानपुर थाना क्षेत्र के मैरी गांव के निकट पूर्व से घात लगाए अपराधियों ने उसे अपने आगोश में ले लिया तथा उसे जबरदस्त तरीके से पिटाई कर उसकेेे हाथ पैर को तोड़ डाले। बाद में उसक शरीर के ऊपरी हिस्से में गोली दाग मौत के घाट उतार दिया था। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने उसके शव को पंचनामा के आधार पर बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए सिवान सदर अस्पताल भेज दिया था।

बड़ी अरमान के साथ कारोबार के सिलसिले में मोहम्मद अलाउद्दीन 1997 में गए थे जनता बाजार:

मृतक मोहम्मद साहेब हुसैन के पिता मोहम्मद अलाउद्दीन 1997 में अपने जिंदगी के कई सपने संजोए कारोबार के सिलसिले में सारण के जनता बाजार गए हुए थे।जहां पर उन्होंने कपड़े की कारोबार से अपनी अरमान को बिखेरते हुए धीरे-धीरे नजर आने लगे।छोटी सी कपड़े की दुकान पूरे बाजार में दिन पे दिन चर्चित होते चली गई।बाद में मोहम्मद अलाउद्दीन अपने शरीर से अस्वस्थ होने के कारण उसका जिम्मा अपने सझले पुत्र मोहम्मद साहेब हुसैन को दे दी थी।उसके बाद मोहम्मद साहेब हुसैन ने अपने पिता की विरासत में मिली हुई दुकान को स्वीकार करते हुए उस कपड़े की दुकान को और प्रगति की ओर ले जाने का काम करने लगा।लेकिन नियति को यह मंजूर नहीं था।इसी बीच बीते शनिवार को अपनी चर्चित कपड़े की दुकान बंद कर घर लौटते समय पूर्व से घात लगाए अपराधियों ने उसे घेर कर जबरदस्त तरीके से पिटाई करते हुए गोली मार मौत के घाट उतार दिया।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष:

थानाध्यक्ष विपिन कुमार ने कहा कि मृतक साहेब हुसैन के पिता मोहम्मद अलाउद्दीन के द्वारा दिए हुए आवेदन के आधार पर हत्याकांड की प्राथमिकी अज्ञात अपराध कर्मियों के विरुद्ध दर्ज कर मामले को वरीय पुलिस पदाधिकारी के निर्देश के आलोक में अनुसंधान की जा रही है।इस हत्याकांड को लेकर क्षेत्र के कई संदिग्धों से पूछताछ करने के बाद पीआर बांड पर रिहा कर दिया गया है।आगे की अनुसंधान वरीय पुलिस पदाधिकारी के निर्देश के आलोक में जारी है। जल्द ही इस घटना इस हत्याकांड का खुलासा कर लिया जाएगा।