माइक्रो कंटेनमेंट में जोन में व्यापक स्तर पर किया जा रहा है सैनिटाइजेशन का कार्य

0
  • डीएमओ के नेतृत्व में किया जा रहा है सैनिटाइज
  • जिले में बनाये गये है 79 कंटेनमेंट जोन
  • सबसे अधिक सीवान शहर में बनाये गये है माइक्रो कंटेनमेंट जोन

सिवान: जिले में कोरोना संक्रमण के रोक थाम के लिए व्यापक स्तर पर कार्य किया जा रहा है। कोरोना के पॉजिटिव मरीज पाये जाने के बाद इलाके को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा रहा है। माइक्रो कंटेनमेंट जोन को सैनिटाइज करने की जिम्मेदारी जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ. एमआर रंजन को दी गयी है। बुधवार को डीएमओ के नेतृत्व में सदर प्रखंड के विभिन्न माइक्रो कंटेनमेंट जोन में व्यापक स्तर पर सैनिटाइजेशन का कार्य किया गया। इसके साथ ही अन्य प्रखंडों मे जहां पर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाये गये है वहां पर भी सैनिटाइज किया गया है। कोरोना पाजिटिव वाले मरीज के घर के साथ ही वार्डों , भीतरी गलियों तथा सार्वजनिक स्थानों पर सोडियम हाइपोक्लोराइड के घोल से सैनिटाइज कर संक्रमण की रोकथाम में जुटे हुए हैं। इसके साथ ही वार्डों में सड़क, नालियों की सघन सफाई भी की जा रही है। डीएमओ डॉ. एमआर रंजन ने बताया कि जिले में अभी तक 79 माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाये गये है। सबसे अधिक सीवान शहर में माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाये गये है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

senitijation in rural area

कंटेनमेंट जोन में नियमों का कड़ाई से करें पालन

सिविल सर्जन ने डॉ. यदुवंश कुमार शर्मा ने बताया कि माइक्रो कंटेनमेंट जोन में नियमों का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य है। इसको लेकर माइकिंग के माध्यम से लोगो को जागरूक किया जायेगा। नियमों का पालन नही करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। सभी लोगों को कोरोना को लेकर अलर्ट रहने की जरूरत है, लोग सचेत रहेंगे तो कम से कम नुकसान होगा। सार्वजनिक आयोजनों में सीमित संख्या में ही लोग शामिल हों और कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें। धार्मिक स्थलों, भीड़भाड़ वाले स्थानों पर लोग विशेष सतर्कता बरतें। उन्होंने कहा कि कोविड -19 टीकाकरण तेजी से कराएं। सेकंड स्टेज के टीकाकरण के लिए भी लोगों को अलर्ट करते रहें ।

प्रत्येक व्यक्तियों की हो रही कोविड-19 की जांच

संक्रमित व्यक्ति के परिवार के साथ साथ कंटेनमेंट जोन के शत-प्रतिशत घरों का रैपिड एंटी कीट के माध्यम से जांच किया जा रहा है। इस कार्य में केयर और डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि का भी सहयोग लिया जा रहा है। कंटेनमेंट जोन की परिधि की सीमा समाप्त होने के अगले 3 किलोमीटर की परिधि को बफर जोन घोषित किया गया है। बफर जोन को भी बांस बल्ला लगाकर लॉक किया जाएगा।