कोरोना संकट में भी गर्भवती महिलाओं व शिशुओं के पोषण का ख्याल रख रही सेविका दया देवी

0
god bharai
  • कोरोना के साथ पोषण के प्रति कर रही जागरूक
  • घर-घर जाकर दे रही पोषण पर संदेश
  • बच्चों के बीच सुधा दूध का वितरण

छपरा:- वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ हर कोई जंग लड़ रहा है। कोरोना की जंग जितनी लंबी खींचती जा रही है, उतना ही कोरोना योद्धाओं का हौसला बढ़ता जा रहा है। कोरोना योद्धाओं में कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो परेशानियों का सामना करते हुए देश के प्रति अपना फर्ज निभा रहे हैं. एकमा प्रखंड के हँसराजपुर गांव के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 63 की सेविका दया देवी भी इस लिस्ट में शुमार हैं जो सुबह होते ही कोरोना संक्रमित इलाकों में जाकर लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण शुरू कर देती हैं और शाम में अपने घर की देखभाल भी करती हैं. वह कोरोना से बचाव की जानकारी देने के साथ लोगों को ऐसे दौर में बेहतर पोषण के गुर भी सीखा रही है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

घर-घर जाकर करती है गोदभराई

सेविका दया देवी ने बताया कोरोना वायरस को लेकर आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद कर दिया गया है। लेकिन गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ को देखते हुए उनके घरों पर जाकर गोद भराई की रस्म अदायगी की जा रही है। गोदभराई दौरान गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार के रूप में फल का वितरण किया जाता है। साथ ही गर्भवस्था के दौरान बेहतर देखभाल करने के लिए उन्हें वह प्रेरित भी करती है।

बच्चों की पोषण का रख रही है ख्याल

सेविका दया देवी बताती हैं उनके क्षेत्र में कोई भी बच्चा कुपोषित नहीं है। वे कोरोना काल मे भी बच्चों के पोषण के ख्याल रख रहीं है। घर घर जाकर बच्चों का अन्नप्राशन करा रही है । साथ ही 6 माह तक बच्चों को सिर्फ मां का दूध पिलाने की जानकारी दे रही है।
6 माह से ऊपर के बच्चों का वे घर-घर पर जाकर अन्नाप्रशन करा रही है और माता-पिता को अनुपूरक आहार के विषय में जानकारी दे रही है.

अब कर रही है टीकाकरण का कार्य

कोरोना वायरस को लेकर चल रहे डोर टू डोर सर्वे अभियान अब पूरा हो चुका है। अब सेविका दया देवी आरोग्य दिवस के दिन टीकाकरण कार्य मे अपनी सेवा दे रही है। यहां पर भी आनेवाली गर्भवती महिलाओं को पोषण व नियमित जांच तथा समय पर टिका लगाने के लिए प्रेरित करती है। साथ ही बच्चों को पौष्टिक आहार देने के लिए माता पिता को जागरूक कर रही है।