नहीं रहे सिवान के विकास पुरुष कहे जाने वाले पूर्व सांसद डॉ. मो. शहाबुद्दीन, तिहाड़ जेल के डीजी ने की पुष्टि

0
shahabuddin ki corona se nidhan
  • 15 फरवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व राजद सांसद को सीवान से तिहाड़ जेल लाने का दिया था आदेश
  • बार बार तिहाड़ जेल प्रशासन लगातार निधन की खबरें करता रहा खंडन

परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सिवान लोकसभा क्षेत्र से विकास पुरुष कहे जाने वाले राजद के पूर्व सांसद डॉ. मो. शहाबुद्दीन के निधन पर शनिवार की अहले सुबह 3:00 बजे से हुई ऊहापोह की स्तिथि व असमंजस पर अंततः विराम लग गया। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के कारण उनका निधन हो गया है। अब से कुछ देर पहले तिहाड़ जेल प्रशासन ने शहाबुद्दीन के निधन की पुष्टि की। तिहाड़ जेल के डीजी ने कहा कि डीडीयू अस्पताल के मुताबिक पूर्व सांसद ने इलाज के दौरान आखिरी सांसें ली।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

उन्हें पिछले महीने 20 अप्रैल को अस्पताल में दाखिल कराया गया था। इससे पहले आज सुबह से पूर्व सांसद के निधन की खबर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी लेकिन इन खबरों का तिहाड़ जेल प्रशासन लगातार खंडन कर रहा था। जेल प्रशासन ने कहा था कि पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की हालत गंभीर है और उनका दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के आईसीयू में इलाज चल रहा है। जेल प्रशासन की ओर से इन खबरों को अफवाह बताया गया। अब जाकर तिहाड़ जेल के डीजी की ओर से आधिकारिक सूचना जारी कर शहाबुद्दीन के निधन की जानकारी दी गई।

आपको बतादें कि तिहाड़ जेल में सिवान के चर्चित तेजाब हत्याकांड में सजा काट रहे शहाबुद्दीन को पिछले महीने अस्पताल में भर्ती किया गया था। कोरोना संक्रमण की वजह से हालत बिगड़ने के बाद उन्हें आईसीयू में एडमिट किया गया। उसके बाद से ही उनकी हालत गंभीर होने की खबरें सामने आ रही थीं। आपको बता दें कि शहाबुद्दीन के खिलाफ तीन दर्जन से अधिक आपराधिक मामले चल रहे हैं। तिहाड़ जेल जाने से पहले वे बिहार के भागलपुर और सीवान की जेल में भी लंबे समय तक सजा काट चुके हैं। साल 2018 में जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर आए, लेकिन जमानत रद्द होने के कारण उन्हें वापस जेल जाना पड़ा। 15 फरवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व राजद सांसद को सीवान से तिहाड़ जेल लाने का आदेश दिया था।