सिवान: नकरात्मक सोच का विरोध करने पर हुई सफदर हाशमी की हत्या

0
Dead Body
  • आज के दौर में हम उपभोक्ता वादी: डॉ. अनिल श्रीवास्तव
  • कविता के माध्यम से हाशमी के विचारों को इंगित करने को कहा

परवेज अख्तर/सिवान: जिला कन्हैया लाल पुस्तकालय के सभागार में जनवादी लेखक संध बैनर तले सफदर हाशमी की शहादत दिवस पर सोमवार को संगोष्ठी का आयोजन किया गया। समाजसेवी मलीह अहमद खान ने कहा कि नकरात्मक सोच का विरोध नुक्कड़ नाटक के माध्यम से करने के कारण ही सफदर हाशमी की हत्या की गयी थी। प्रो. उपेन्द्रनाथ यादव ने सफदर हाशमी के जीवन पर आलेख पाठ करते हुए उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर पर प्रकाश डाला। डॉ. अनिल कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि आज के दौर में हम उपभोक्ता वादी हो गए है जिसे मानवीय मूल्यों का अवमूल्यन हो रहा है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

अवधेश पाण्डेय मिश्रा लारी ने कविता के माध्यम से सफदर हाशमी के विचारों को इंगित कर आम-अवाम के बीच ले जाने की बाते कहीं। कमर सीवानी, रामनरेश सिंह, डॉ. डॉ. के एहतेशाम अहमद, मो. सगीर रहमानी, शिक्षक उपेन्द्र कुमार यादव, डॉ. आमिस हुसैन, प्रकाश चन्द द्रिवेदी, भोगेन्द्र ज्ञा, किशोर प्रसाद, शशि कुमार, मुकेश कुमार, इमाम हुसैन, विपिन विहारी सिंह, मुन्ना मिश्रा व महफुज आलम ने अपनी बात रखी। कार्यक्रम की अध्यक्षता जनवादी लेखक संध सीवान के अध्यक्ष युगल किशोर दूबे ने की।