पाप कटाने को जा रहे थे गंगा स्नान करने, यमराज ने बीच में रोका

0
siwan road accident

दरौली स्थित सरयू स्नान को जा रहे थे श्रद्धालु

घायलों व मृतकों में अधिकांश हैं गोपालगंज के लछवार निवासी

परवेज अख्तर/सिवान : सिवान-मैरवा मुख्यमार्ग पर गुरुवार की देर रात कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर दरौली प्रखंड स्थित सरयू नदी में स्नान करने जा रहे श्रद्धालुओं को यह पता नहीं था कि जिस तामसिक वृतियों का नाश करने के लिए ये सभी दरौली के सरयू घाट पर जा रहे थे उन्हें बीच में यमराज घेर लेंगे और तीन लोगों की मौत हो जाएगी। रात में चालक ने अपनी सूझबूझ से गाड़ी को सड़क किनारे रोकर एक महिला श्रद्धालु को उल्टी करने के लिए गाड़ी से नीचे उतरा लेकिन इसी बीच तेज रफ्तार से आ रही टैंकर के चालक ने गाड़ी में तेज टक्कर मार दी। इस कारण गाड़ी में सवार सभी 20 लोग सड़क किनारे गड्ढे में जा गिरे। पिकअप में पटरे के सहारे दो मंजिला बैठने के लिए मचान बनाया गया था। कुछ लोग मचान पर सो रहे थे। सोए अवस्था में लोगों को यह पता ही नहीं चला कि उनके साथ क्या हो गया। घायलों में शामिल युगल प्रसाद ने बताया कि राजाराम की पत्नी को उल्टी की शिकायत थी, गाड़ी चालक को हम सभी ने किसी जगह रोकने के लिए कहा इस पर चालक ने सड़क को सुनसान देखकर गाड़ी को सड़क किनारे रोक दिया, लेकिन अभी हमलोग कुछ समझ पाते कि एक तेज रफ्तार में आ रही टैंकर के चालक ने गाड़ी में टक्कर मार दी। घटना के बाद सड़क पर कोई नहीं था, हम सभी ने बचाव बचाव की आवाज लगाई, इसके बाद कुछ लोग वहां पहुंचे और टॉर्च के सहारे किसी तरह सड़क के नीचे गड्ढे में गिरे लोगों को निकालने का प्रयास किया और पुलिस को सूचित किया। जब पुलिस दलबल के साथ मौके पर पहुंची तब तक काफी संख्या में लोग वहां आ चुके थे। पेट्रोल पंप के कर्मियों ने भी हमारी काफी मदद की।accident in siwan

गश्त पार्टी ने दिखाई सक्रियता

घटना के कुछ ही देर बाद जीरादेई थाना का गश्ती दल मौके पर पहुंचा तथा मदद में जुट गए। गश्त दल में शामिल पुलिस पदाधिकारी विनोद सिंह ने घटना की सूचना थानाध्यक्ष को दी। थानाध्यक्ष सुनील कुमार ने सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए दो ऑटो की व्यवस्था कर घायलों को उपचार के लिए सदर अस्पताल भिजवाया। वहीं मृतकों के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

सदर अस्पताल में थी चाक चौबंद व्यवस्था

घटना की सूचना स्थानीय थानाध्यक्ष सुनील कुमार को जैसे मिली वे घटना स्थल पहुंचे और मृतकों की जानकारी लेकर तुरंत सदर अस्पताल सहित जिला मुख्यालय को सूचित किया। इसके बाद सदर अस्पताल में अलर्ट जारी कर दिया गया। अस्पताल में एक के बाद एक 15 घायलों के आते ही नए बेड को स्टोर रूम से निकाल कर इमरजेंसी के समीप लगा दिया गया। जिस पर घायलों को लेटा कर उनका प्रारंभिक इलाज किया गया। वहीं सुबह में आने वाले चिकित्सकों को अलसुबह ही अलर्ट कर बुला लिया गया। कंपाउंडरों को भी अस्पताल में तुरंत बुला लिया गया। ताकि किसी तरह की परेशानी घायलों को ना हो। वहीं किसी तरह की अप्रिय घटना से निपटने के लिए जिला पुलिस केंद्र से अतिरिक्त लाठी पार्टी को तैनात कर दिया गया था।

पदाधिकारी पहुंचे अस्पताल, ली घटना की जानकारी

घटना की सूचना पाकर एसडीओ अमन समीर, एएसपी कांतेश कुमार मिश्रा, डीडीसी सुनील कुमार, जिला परिषद अध्यक्ष संगीता देवी, नगर इंस्पेक्टर सुबोध कुमार, मुफस्सिल इंस्पेक्टर अनिरुद्ध कुमार, सराय ओपी प्रभारी राकेश कुमार शर्मा, जीरादेई के अंचलाधिकारी सदर अस्पताल पहुंचकर घायलों से मिलकर घटना की जानकारी ली व चिकित्सकों को बेहतर इलाज का निर्देश दिया।

अस्पताल पहुंचे परिजन, मचा कोहराम

घटना की सूचना के बाद घायलों व मृतकों के परिजन सदर अस्पताल पहुंचे। मृतक के परिजनों के पहुंचते ही अस्पताल में कोहराम मच गया। सभी अपने-अपने परिजन की खोज ले रहे थे। वहीं अस्पताल परिसर में अतिरिक्त पुलिस बल की व्यवस्था की गई थी, ताकि कोई अप्रिय घटना न हो।पाप कटाने को जा रहे थे गंगा स्नान करने, यमराज ने बीच में रोका