शहाबुद्दीन के पैतृक गांव प्रतापपुर पहुंचे तेजप्रताप, ओसामा से की मुलाकात

0

राजद के दो विधायक भी पहुंचे तेजप्रताप के साथ

परवेज अख्तर/सिवान: दिवंगत शहाबुद्दीन के पैतृक गांव प्रतापपुर में स्वजनों से मुलाकात करने के बाद तेजप्रताप पूर्व सांसद के सीवान के आनंद नगर स्थित आवास पर आए और यहां काफी देर तक ठहरे। यहां उन्‍होंने दिवंगत शहाबुद्दीन के पुत्र ओसामा शहाब के साथ काफी देर तक मुलाकात की। यहां मढ़ौरा के विधायक जितेंद्र कुमार राय और सिवान सदर विधायक अवध बिहारी चौधरी भी मौजूद रहे। तेज प्रताप ने कहा कि दिवंगत शहाबुद्दीन राजद और लालू परिवार के साथ हमेशा खड़े रहे। यह उनका अपना परिवार है। कुछ लोगों ने उनसे पूछा कि उनके परिवार से दिल्‍ली में कोई क्‍यों नहीं गया, तो इसका उन्‍होंने कोई जवाब नहीं दिया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 7.27.12 PM
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

तेज प्रताप से पहले रीतलाल यादव भी गए थे सिवान

tejpratap meat osama

तेज प्रताप से पहले दानापुर के राजद विधायक रीतलाल यादव भी सिवान में पूर्व सांसद के घर गए थे। उन्‍होंने भी ओसामा से मुलाकात की थी। उनके ठीक बाद जदयू नेता राधा चरण सेठ सिवान गए थे। सेठ पहले राजद में ही शामिल थे, लेकिन पिछले चुनाव से पहले उन्‍होंने खेमा बदल लिया। उन्‍होंने कहा था कि व्‍यक्तिगत रिश्‍तों की वजह से वे सिवान आए हैं, इसका कोई राजनीतिक मकसद नहीं। हालांकि पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा था कि राजनीति में संभावनाओं का विकल्‍प हमेशा खुला रहता है। जाप के नेता पप्‍पू यादव भी सिवान जाकर ओसामा से मुलाकात कर चुके हैं।

दिल्‍ली नहीं गया था लालू परिवार का कोई सदस्‍य

shabuddin son osama

दिवंगत शहाबुद्दीन का निधन दिल्‍ली के दीन दयाल अस्‍पताल में हुआ था। उनका अंतिम संस्‍कार भी दिल्‍ली में ही हुआ। अंतिम संस्‍कार से पहले काफी हंगामा भी हुआ। परिवार के लोग और शुभचिंतक पूर्व सांसद के शव को उनके पैतृक गांव लाने चाहते थे, लेकिन दिल्‍ली के प्रशासन ने इसकी इजाजत नहीं दी। दिल्‍ली की कोर्ट से भी इस मामले में इजाजत नहीं दी गई। दिवंगत शहाबुद्दीन के शुभचिंतकों का कहना था कि इस पूरे मामले के दौरान लालू परिवार का कोई सदस्‍य मिलने तक नहीं आया, जबकि कई लोग तब दिल्‍ली में ही थे। तेज प्रताप के आज के दौरे को दिवंगत शहाबुद्दीन के परिवार की नाराजगी को दूर करने की कोशिश माना जा रहा है।