अपने चहेते थानेदारों के चक्कर में चली गई गया के IG-SSP की कुर्सी…..जानिए पूरी कहानी….

0

पटना: गया के दो थानेदारों के चक्कर में बढ़ी टकराहट ने मगध क्षेत्र के IG अमित लोढ़ा और SSP आदित्य कुमार को हटना पड़ा।पुलिस सूत्रों के अनुसार, दोनों IPS अफसरों के बीच लंबे समय से तनातनी चल रही थी जिसमें थानेदारों का मामला तात्कालिक कारण बन गया। इस बीच पुलिस मुख्यालय तक जनप्रतिनिधियों और अन्य स्रोतों से भ्रष्टाचार और अनियमितता की शिकायतें मिलीं जिसके बाद दोनों ही IPS अफसरों को तत्काल प्रभाव से हटाते हुए पुलिस मुख्यालय रिपोर्ट करने का निर्देश दे दिया गया।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

थानेदार को लेकर आइपीएस और आइजी स्तर के पदाधिकारियों के बीच लड़ाई को लेकर कई दूसरे सवाल भी उठ रहे हैं। आखिर थानेदारों को संरक्षण देने का कारण क्या था, इसके कारणों की भी पड़ताल की जा रही है।

सूत्रों के अनुसार, दोनों IPS अफसरों के बीच लड़ाई की कई कडिय़ां हैं, जिसमें रामपुर और फतेहपुर के थानेदार की कड़ी अहम है। रामपुर के थानेदार सुरेंद्र कुमार सिंह पर एसएसपी की कार्रवाई के आदेश को IG ने पलट दिया था। यह मामला आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति को चरित्र प्रमाण पत्र निर्गत करने से जुड़ा था। वह व्यक्ति अकसर थाने आता-जाता था जिसके आधार पर सत्यापन करने वाले पुलिसकर्मी ने उसे क्लीनचीट दे दी। इसकी शिकायत किसी शख्स ने ऊपर तक कर दी। इसके बाद जांचकर्ता पुलिस पदाधिकारी को निलंबित कर दिया गया। SSP ने सिटी एसपी की जांच रिपोर्ट के आधार पर थानेदार के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा कर दी। जब जवाब नहीं आया तो आदेश के इंतजार में थानेदार को हटाते हुए लाइन हाजिर कर दिया मगर थोड़े ही दिनों में IG के स्तर से SSP के आदेश को पलट दिया।

इसके अलावा एक और मामला गया के फेतहपुर थानेदार से जुड़ा है, जो पिछले साल दिसंबर का है। इसमें तत्कालीन थानाध्यक्ष संजय कुमार पर शराबबंदी कानून में लापरवाही बरतने का आरोप लगा था। दो मामलों में अंग्रेजी शराब और महुआ शराब पकड़े जाने के बाद थानाध्यक्ष ने सिर्फ सनहा दर्ज किया था। बरामद शराब व अन्य सामान की न जब्ती सूची बनाई गई और न ही प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान किया गया। इस मामले में एसएसपी ने चेतावनी देते हुए कार्यकलाप में सुधार का अवसर थानेदार को दे दिया जबकि आइजी के द्वारा थानेदार को निलंबित करने का निर्देश दे दिया गया। इस मामले को लेकर भी दोनों अफसरों के बीच तनातनी चली। इस मामले को लेकर मद्य निषेध IG ने भी एसएसपी को पत्र लिखकर इस लापरवाही को खेदजनक बताया और मगध रेंज के IG के आदेश का अनुपालन करने का निर्देश दिया था।