छपरा से तीन दिनों से गायब युवक निकला जाली नोट का तस्कर, 11.50 लाख के जाली नोट के साथ हुआ गिरफ्तार

0

छपरा: जिले के अमनौर प्रखण्ड के धरहरा खुर्द पंचायत के दो व्यक्ति जाली नोट के तस्करी में संलिप्त पाए गए है।मुजफ्फरपुर के मोतीपुर थाना ने 11.50 लाख के जाली नोट के साथ मोहमदपुर बलमी चौक से दोनों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार तस्कर अमनौर थाना क्षेत्र के धरहरा पंचायत स्थित एक फिरोजपुर गांव के शत्रुध्न भगत के पुत्र आलोक भगत वही दूसरा मंदरौली गांव के स्व नगेंदर सिंह के पुत्र राजू सिंह बताया जाता है। दोनों की दोस्ती पंचायत चुनाव के पूर्व हुई थी। ये दोनों 15 जनवरी को घर से स्विफ्ट डिजायर गाड़ी से बखरा जाने के लिए निकले हुए थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

आलोक अपने परिजनों को यह बता कर निकला था कि वहाँ असलम नाम के व्यक्ति से केवल मिलकर आना है, लेकिन तीन दिन बीत गया गाड़ी समेत गायब रहा। परिजनों को कुछ भी पता नही,ये कुछ और ही समझ रहे थे। जैसे ही जाली नोटो के तस्करी के मामला उजागर हुआ। गांव में तरह तरह के चर्चा शुरू हो गई।

आलोक पहले असम में ससुर के साथ गाड़ी चलाता था, लॉक डाउन में स्विफ्ट डिजायर गाड़ी लेकर घर आया लोगो से बोला ससुर ने खरीद कर कमाने के लिए दिए है।इसके बाद से यही रहने लगा। इसके इस कारनामे से परिजनों को कुछ भी पता नही था।वही राजू सिंह गांव में लोगो को बैंक से लोन दिलवाने तथा मुजफ्फर पुर में जमीन के खरीद बिक्री के काम करने की बात कहता था।लोगो मे पहले से ही इस धंधे में सँगलिप्त होने का शंका थी।

मुजफ्फरपुर के सरैया एसडीपीओ राजेश कुमार शर्मा के नेतृत्व में असम नम्बर के स्विफ्ट डिजायर गाड़ी के साथ इनके दो और साथी को पुलिस ने गिफ्तार कर लिया है।कार की डिक्की की तलाशी लेने पर जाली नोट बरामद हुई ।पुलिस के अनुसार तस्करों के पास से 11.50लाख की जाली भारतीय मुद्रा में 500,100,और 200 रुपये की नोट है।

धंधेबाज का कनेक्शन नेपाल व बंग्लादेश से होने की बात कही जा रही है।नेपाल बॉडर पार करके मोती पुर के रास्ते अमनौर नोट की खेप आ रही थी। लोगो मे चर्चा है कि ये सब कई वर्षों से इस धंधे में है इनके द्वारा लाया गया नकली नोट अमनौर में ही खपाया गया होगा। कुछ लोगो का यह भी मत है कि पंचायत चुनाव के दौरान इन नोटों का खूब बरसात हुई होगी।