छपरा में जहरीली शराब पीने से 18 लोगों की हो चुकी है मौत….कांड के बाद अब तक 138 हो चुके हैं गिरफ्तार….

0
sharab baramad

छपरा: बिहार के छपरा में हुई 18 लोगों की मौत की वजह सरकार ने प्राथमिक तौर पर शराब का सेवन करना मान लिया है। हालांकि, अंतिम तौर पर मौत के सही कारण जानने के लिए विसरा रिपोर्ट का इंतजार करने की बात भी सरकार और प्रशासन कह रहा है। यह मामला जब शुरुआत में सामने आया था, तो छपरा के डीएम ने एक शख्‍स की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से ठंड से मौत की बात कही थी। हालांकि, अब डाक्‍टर और अधिकारी भी यह बात कह रहे हैं कि ठंड लगने के लक्षण अलग होते हैं। बहरहाल, मामला तूल पकड़ने के बाद प्रशासन हरकत में आया है। बताया जा रहा है कि सारण पुलिस ने पिछले एक हफ्ते में शराब से जुड़े 138 लोगों को गिरफ्तार किया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

जिले के मकेर, अमनौर एवं मढ़ौरा थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से आंख की रोशनी खोने व मौतों के बाद सारण पुलिस द्वारा 18 से 21 जनवरी 22 तक विशेष अभियान चलाकर 651 संवेदनशील स्थानों पर छापेमारी कर 138 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। शराब के कुल 67 कांड दर्ज किए गए हैं। साथ ही अंग्रेजी शराब 65.04 लीटर एवं 630 लीटर स्प्रिट, देसी शराब 2137.36 लीटर सहित कुल 2202.4 लीटर शराब बरामद की गई है। मकेर थाने में 12 नामजद अभियुक्तों तथा अन्य अज्ञात के विरुद्ध जहरीली शराब निर्माण, बिक्री एवं पिलाने के कारण लोगों की मृत्यु होने एवं देसी व अंग्रेजी शराब, स्प्रिट तथा रसायनिक पदार्थ एवं उपकरण बरामद होने के आरोप में कांड दर्ज कर मुख्य अभियुक्त शराब कारोबारी मुन्ना महतो उर्फ विरेन्द्र महतो, आपूर्तिकर्ता रोहित राय तथा मकेर थाना के चौकीदार गणेश मांझी सहित कुल चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है।

सारण में दर्जन भर से अधिक लोगों की हुई संदेहादस्पद मौत की जांच के लिए गई मुख्यालय स्तर के अफसरों की टीम वापस राजधानी लौट आई है। सूत्रों के अनुसार, जांच टीम की पड़ताल में प्रथमदृष्टया पांच लोगों की मौत जहरीली शराब से होने की आशंका जताई गई है। जांच टीम के अफसर अंतिम निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। जांच टीम में मद्यनिषेध इकाई के आइजी अमृतराज, उत्पाद आयुक्त बी कार्तिकेय धनजी आदि शामिल थे। इसके अलावा गृह विभाग के सचिव के सेंथिल कुमार भी सारण गए थे। हालांकि आधिकारिक रूप से इस बाबत कोई भी अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं।

इस बाबत पुलिस मुख्यालय के एडीजी जितेंद्र सिंह गंगवार ने बताया कि मुख्यालय से गई टीम ने वहां पुलिस-प्रशासन के साथ बैठक की है। स्थिति का जायजा लिया गया है। अभी रिपोर्ट मिली नहीं है। स्थानीय प्रशासन को स्पेशल टीम बनाकर छापेमारी करने और गिरफ्तारी करने का आदेश दिया गया है। कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति पूरी तरह स्पष्ट हो पाएगी।

सारण में जहरीली शराब पीने से 18 लोगों की मौत के पीछे पुलिस-प्रशासन के अधिकारी जहां संदिग्ध हालत में मौत होने की बात कह रहे हैं, वहीं मृतकों के स्वजन जहरीली शराब पीने के बाद तबीयत बिगडऩे के बाद मौत की बात कह रहे हैं। जिला प्रशासन के निर्देश पर मेडिकल बोर्ड ने चार लोगों के शव का पोस्टमार्टम किया है। चारों लोगों के विसरा जांच के लिए पुलिस लैब मुजफ्फरपुर भेजे गए हैं। इधर, छपरा परिसदन में मद्य निषेध विभाग के SP संजय सिंह ने पत्रकारों से कहा है कि प्रारंभिक जांच के अनुसार मौत से पहले उन लोगों ने शराब पी थी।