सीमित परिवार के प्रति महिलाओं में दिखी जागरूकता, परिवार नियोजन मेला उत्साह के साथ पहुंची

0
  • महिलाओं ने कहा- सुखी परिवार के लिए परिवार नियोजन जरूरी
  • गड़खा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लगा परिवार नियोजन मेला
  • योग्य दपंतियों को दी गयी परिवार नियोजन की जानकारी
  • अस्थाई साधनों का हुआ नि:शुल्क वितरण

छपरा: मिशन परिवार विकास अभियान के अंतर्गत गड़खा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में परिवार नियोजन मेला का आयोजन किया गया। जिसका विधिवत उद्घाटन प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. पंकज आर्यन ने किया । मेला में काफी संख्या में ग्रामीण महिलाओं ने हिस्सा लिया। इस दौरान सीमित परिवार के प्रति महिलाओं में काफी जागरूकता देखने को मिली। मेला में करीब 80 से अधिक महिलाएं पहुंची। जिनकी काउंसलिंग की गयी । एएनएम के परामर्श के बाद महिलाओं ने इच्छा अनुसार परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों को अपनाने के बात कही । वहीं कई महिलाओं ने स्थायी साधन जैसे बंध्याकरण के लिए अपना रजिस्ट्रेशन भी कराया। आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा, दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर जोर दिया जा रहा है। इस मौके पर डॉ. पंकज आर्यन, डॉ. संतोष कुमार, डॉ. शीलानाथ सिंह, डॉ. विजय नंदीनी, डॉ. रूपेश कुमार, केयर इंडिया के बीएम प्रशांत कुमार सिंह, सीएचसी रोहित राज, आईसीटी समीर हुसैन,बीएमएनई सुनिल कुमार, एएनएम सरोज कुमारी, पुनम कुमारी शामिल थीं ।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
vig1
ads
a2
vig2

mahila jagrukh

मेले में अस्थाई व स्थाई साधन उपलब्ध

केयर इंडिया के बीएम प्रशांत कुमार सिंह ने बताया कि परिवार नियोजन के साधन जैसे गर्भ निरोधक गोली, कंडोम, गर्भ निरोधक इंजेक्शन सहित अन्य साधनों से युक्त बास्केट ऑफ च्वाइस उपलब्ध रहेंगे जहां से लोग परिवार नियोजन के साधनों के बारे में जानकारी प्राप्त कर उपयोग के लिए अपनी पसंद का साधन चुन सकते हैं ।

सुखी जीवन के लिए परिवार नियोजन जरूरी

मेले में आयी निर्मला देवी ने कहा कि दिन प्रतिदिन महंगाई बढ़ती जा रही है। ऐसे में दो से अधिक बच्चों को पालन-पोषण करना बहुत मुश्किल है। अगर दो बच्चे रहेंगे तो बेहतर शिक्षा के साथ साथ बेहतर स्वास्थ्य भी मिल सकता है। इसलिए छोटा परिवार ही सुखी परिवार का मूल मंत्र है। मैने आज अस्थाई साधन अंतरा को अपनाया है। जिससे बच्चों में अंतराल आ सके।

मैनें छाया को अपनाया , दूसरे को भी करूंगी प्रेरित

अमनौर प्रखंड के जहरी पकड़ी निवासी लालमुनी देवी ने कहा कि आज के परिवेश में छोटा परिवार होना बहुत जरूरी है। मुझे बच्चा हुआ है। आज मैने परिवार नियोजन के अस्थाई साधन को अपनाया है। ताकि दूसरे बच्चे में अंतराल हो सके। दूसरे बच्चा होने के बाद मैं स्थायी साधन बंध्याकरण कराऊंगी, ताकि अपने बच्चों का भविष्य बेहतर बना सके। महंगाई के जमाने में एक बच्चा पालना भी मुश्किल है। लेकिन बच्चें दो हीं अच्छे। इसलिए सभी से अपील भी है कि आप भी परिवार नियोजन को अपनाएं ।