बिहार के संस्थान NIRF में फिर चूके, टॉप 100 में सिर्फ आईआईटी पटना

0

पटना: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गुरुवार को वर्ष 2021 की एनआईआरएफ रैंकिंग (नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क) जारी की। नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क की ओर से जारी देशभर के संस्थानों की रैंकिंग में आईआईटी पटना को 55.75 अंकों के साथ 51वां स्थान प्राप्त हुआ है। ओवरऑल रैंकिंग में जगह बनाने वाला आईआईटी पटना बिहार का एकमात्र संस्थान है। यह पिछली बार की तुलना में तीन पायदान ऊपर चढ़ा है। पिछली बार आईआईटी पटना को 54वां स्थान प्राप्त हुआ था। अन्य किसी भी श्रेणी में बिहार का कोई भी संस्थान रैंकिंग में स्थान सुनिश्चित नहीं कर पाया है। इस वर्ष भी ओवरऑल कैटेगरी में आईआईटी मद्रास को देश का बेस्ट शैक्षणिक संस्थान चुना गया है। वहीं आईआईएससी बेंगलुरु दूसरे और आईआईटी बॉम्बे तीसरे स्थान पर हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

क्या है NIRF रैंकिंग

भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय की ओर से हर वर्ष नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) रैंकिंग जारी की जाती है। देश के विश्वविद्यालयों, इंजीनियरिंग, मैनेजमेन्ट और फार्मेसी संस्थानों की रैंकिंग के लिए एनआईआरएफ संस्था बनाई है। इससे पूर्व रैकिंग के लिए कोई सरकारी संस्था नहीं थी। प्राइवेट संस्थाएं रैकिंग जारी करती थीं, जिस पर तरह-तरह के सवाल उठते थे। लेकिन अब विभिन्न मानकों के आधार पर सरकार की ओर से सरकारी और प्राइवेट संस्थानों को रैंकिंग दी जाती है। एनआईआरएफ रैंकिंग संस्थानों को टीचिंग लर्निंग एंड रिसोर्सेज, रिसर्च एंड प्रोफेशनल प्रैक्टिस, ग्रेजुएशन आउटकम, आउटरीच एंड इंक्ल्यूसिविटी, परसेंप्शन के आधार पर दी जाती है।