छपरा: 30 घंटे बाद रेस्क्यू कर प्रशासन ने पानी भरे गड्ढे से निकाला टैंकर चालक का शव

0
  • गुस्साए लोगों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा एसएच-73 को घंटों किया जाम
  • गत दिन एसएच-73 स्थित गंडार मनिया पुल के समीप कुहासे के कारण पुल की रेलिंग तोड़ खाई में जा गिरा था पैट्रोल टैंकर

छपरा : जिले के तरैया थाना क्षेत्र के तरैया-मसरख एसएच-73 सड़क पर मंगलवार की सुबह में एक पैट्रोल टैंकर के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद देर संध्या तक टैंकर चालक का पानी भरे गड्ढे से शव नहीं निकाले जाने के विरोध में मृतक के परिजनों एवं ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए बुधवार की सुबह में एसएच-73 को बैरिकेटिंग टिन से सड़क को अवरुद्ध कर जाम कर दिया। सड़क जाम के कारण पटना, सिवान, गोपालगंज, छपरा, मसरख, मढ़ौरा समेत अन्य जगहों पर आने-जाने वाली दर्जनों गाड़ियों को अपना रूट बदलकर जाना पड़ा। इधर जाम के कारण सड़क के दोनों तरफ गाड़ियों की लम्बी-लम्बी कतारे लगी रही। जाम की सूचना पाकर तरैया, पानापुर, इसुआपुर, मसरख समेत अन्य जगहों की पुलिस पदाधिकारी मौके पर पहुचकर स्थिति को नियंत्रण करने में लगें रहें। हालांकि घटना के बाद मंगलवार की देर संध्या तक स्थानीय प्रशासन ट्रैंकर को बाहर निकालने का प्रयास करती रही लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

करीब 30 घंटे बाद प्रशासन को सफलता हाथ लगी और बुधवार को दोपहर बाद रेस्क्यू कर पानी भरे गड्ढे से चालक का शव निकाला गया। स्थानीय पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में पटना एवं मुजफ्फरपुर से आये दो क्रेन मशीन के सहारे पूरे दिन मशक्क्त के बाद दोपहर बाद करीब चार बजे टैंकर को धीरे-धीरे पानी से ऊपर की तरफ खिंचा गया तब उसमें मौजूद चालक के शव को टैंकर से बाहर निकाला गया। टैंकर में पूरी मात्रा में तेल मौजूद होने के कारण दोनों क्रेन गहराई से टैंकर को बाहर निकालने के प्रयास में बार-बार असफल हो रहे थे। काफी मशक्क्त के बाद ट्रैंकर को सीधा कर उसमें से मृत चालक का शव निकाला गया। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए छपरा भेज दिया। घटना स्थल पर मौजूद मृतक के परिजन शव को देखकर चीत्कार फार-फार कर रो-रहे थे। उस हृदयविदारक घटना को देख वहां मौजूद सभी की आंखे नम हो जा रही थी। वहीं घटना स्थल के आसपास करीब पांच हजार से अधिक पुरुष एवं महिलाओं की भीड़ पूरी दिन लगी रही। तथा घटना को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं होती रही। बताते चलें कि मंगलवार की सुबह में कुहासे एवं चालक के नियंत्रण खोने के कारण पुल की रेलिंग तोड़ पैट्रोल टैंकर पानी भरे गड्ढे में जा गिरी थी।

इस घटना में उप चालक मुजफ्फरपुर जिले के मटियानी थाना क्षेत्र के चैनपुर बंगरा निवासी रसीद आलम गंभीर रूप से घायल हो गया था, जिसका इलाज रेफरल अस्पताल तरैया में किया गया। जबकि टैंकर चालक परसा थाना क्षेत्र के परसौना गांव निवासी अनिल कुमार पंडित की गहरे पानी में जाने एवं टैंकर से दबे होने के कारण मौत हो गई थी तथा उसका शव पानी के अंदर टैंकर से दबे होने के कारण बाहर नहीं निकल पाया था। जो कि बुधवार को रेस्क्यू कर निकाल गया। वहीं समाचार प्रेषण तक गड्ढे से टैंकर को बाहर निकालने का प्रयास जारी था। वहीं पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम में भेजने के बाद सड़क जाम समाप्त कराया तब जाकर यातायात बहाल हुआ। इधर घटना की सूचना मिलते ही तरैया विधायक जनक सिंह मौके पर पहुचे एवं स्थिति का जायजा लिया तथा पीड़ित परिजनों से इस दुख की घड़ी में धैर्य से काम लेने की बात कही। मौके पर पथ परिवहन विभाग सारण प्रमण्ड के कनीय अभियंता विभूति चंद्रा, मढ़ौरा एसडीओ मनीष कुमार तिवारी, तरैया बीडीओ राकेश कुमार, सीओ सुश्री अंकु गुप्ता, थानाध्यक्ष राजेश कुमार, समेत पानापुर, इसुआपुर, मसरख के पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल मौजूद रहे।