छपरा: इसुआपुर थाना परिसर के बगल वाले तालाब में मिले सैकड़ों बोतल विटामिन के सिरप

0

मरी मछलियों के देख लोगों को पता चला तालाब में सिरप फेंका गया है

छपरा: जिले के इसुआपुर स्थानीय थाना परिसर से सटे पूरब तालाब में रविवार को विटामिन के सैकड़ों सिरप तथा मरी मछलियों को देख लोगों के होश उड़ गए। यह घटना जंगल में लगी आग की तरह फैल गई। जिसे देखने के लिए लोगों को भारी भीड़ इकट्ठी हो गई। लोगों में यह घटना कौतूहल का विषय बना हुआ है। सूचना मिलने पर सीएचसी इसुआपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ विजय किशोर प्रसाद तालाब के पास पहुंचे तथा तालाब में तैरते हुए तथा जाल से निकाले गए विटामिन के बोतलों तथा मरी हुई मछलियों को देखा। जिसके बाद वह भी हैरान हैं। आयरन तथा फोलिक एसिड विटामिन के मिले बोतलों के एक्सपायरी डेट अभी अगस्त 2021 में होने हैं। बावजूद सैकड़ों बोतलें तालाब में किसने फेंकी होंगी, इस बात को लेकर वे भी अचंभित हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

उन्होंने बताया कि विटामिन की कुछ दवाएं अस्पताल के अलावा आशा कार्यकर्ताओं को भी दी जाती है ताकि वे अपने संबंधित पोषक एरिया में महिलाओं और बच्चों को दे सकें। हालांकि उनका यह भी कहना है कि यह एक साजिश भी हो सकती है। जिसे किसी बाहरी व्यक्ति के फेंके जाने से भी इनकार नहीं किया जा सकता। साथ ही उनका कहना है कि विटामिन की शीशियां पैक हैं और एक्सपायर्ड भी नहीं है। वैसे में मछलियों ने टॉनिक नहीं पिया होगा। संभावना है कि ईर्ष्या वश किसी ने तालाब में जहर फेंक दिया हो जिससे मछलियां मर जाएं और मछली पालक को नुकसान पहुंचे। वहीं तालाब के आसपास के घरों की महिलाओं ने बताया कि शुक्रवार की देर संध्या तीन महिलाएं बक्से लेकर आईं और उन्हें तालाब में फेंक कर चली गई। वहीं लाखों रुपए मूल्य की मछलियों के मर जाने से मछली पालक स्थानीय विशुनपुरा गांव के मुकुल कुमार की आर्थिक कमर टूट गई है।