छपरा: ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन कंसल्टेंसी में सारण जिला को राज्य में मिला दूसरा स्थान

0
  • 1359 मरीजों को दिया गया ऑनलाइन चिकित्सकीय पराशर्म
  • दूर-दराज और ग्रामीण क्षेत्रों के मरीजों के लिए शुरू हुई सेवा
  • एएनएम और चिकित्सकों की भूमिका रही महत्वपूर्ण

छपरा: जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ करने का प्रयास किया जा रहा है। बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने के आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिले में ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा की शुरुआत की गयी है। अब आरोग्य दिवस पर इस सेवा का लाभ मरीजों को मिलेगा। इसको लेकर शुक्रवार को ड्राई रन किया गया। जिसमें पूरे राज्य में सारण जिले को दूसरा स्थान हासिल हुआ है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

जिले में 39 हब 340 स्पोक्स बनाये गये थे। जिसमें मरीजों को वीडियो कॉल के माध्यम से चिकित्सकीय पराशर्म दी गयी। इसके साथ हीं ऑनलाइन प्रिस्क्रिप्शन भी लिखा गया। इस दौरान 1359 मरीजों को इस सेवा का लाभ दिया गया। इस ड्राई रन में सारण जिले को बिहार में दूसरा स्थान हासिल हुआ है। इस ड्राई रन को सफल बनाने में जिला स्तरीय पदाधिकारियों के साथ नीचे स्तर के सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की भूमिका महत्वपूर्ण रही।

घर के नजदीक मरीजों को मिली चिकित्सकीय सहायता :

जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम अरविन्द कुमार ने बताया कि टेलीमेडिसीन की शुरुआत होने से लोगों को उसके घर के नजदीक ही अस्पताल में मिलने वाली सुविधा उपलब्ध होगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में चिकित्सक नियुक्त किए गए हैं ,जो लोगों को टेलीमेडिसीन की सुविधा उपलब्ध कराएंगे। इस दौरान सभी वीएचएसएनडी साइट्स पर एएनएम द्वारा लोगों को फोन के माध्यम से चिकित्सकों से बात करायी जाएगी। फोन से मरीजों का स्वास्थ्य जानकर चिकित्सक द्वारा उन्हें इलाज के लिए आवश्यक दवाइयों का परामर्श दिया जाएगा। उसके बाद स्थानीय एएनएम द्वारा मरीज को चिकित्सक द्वारा निर्धारित दवाइयां उपलब्ध कराई जाएगी। इस अभियान से मरीजों को बहुत सुविधा उपलब्ध होगी और वह अपने घर के नजदीक ही अस्पताल में मिलने वाली सुविधा का लाभ उठा सकेंगे।

स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने और लोगों को सीधे तौर पर इसका लाभ देने का प्रयास:

डीएमएंडई भानू शर्मा ने बताया कि स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने और लोगों को सीधे तौर पर इसका लाभ देने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा टेलीमेडिसीन कंसल्टेशन की शुरुआत की गई है। शुक्रवार को इस अभियान के क्रियान्वयन की जांच के लिए ड्राई रन चलाया गया । जिसमें सभी क्षेत्रों के मरीजों को सीधे तौर पर चिकित्सकों से ऑनलाइन माध्यम द्वारा जोड़ा गया और उसे चिकित्सकीय सहायता उपलब्ध कराई गई। इस अभियान के शुरू होने से लोगों को काफी सहूलियत होगी।

जानिए क्या है टेलीमेडिसीन कंसल्टेशन :

टेलीमेडिसिन कंसल्टेशन एक तरह की स्वास्थ्य सुविधा है ,जिसमें मरीज सीधे तौर पर ऑनलाइन माध्यम से अपने रोग से संबंधित डॉक्टर जुड़ सकेंगे और चिकित्सकीय परामर्श ले सकेंगे। बिहार में कई ऐसे ग्रामीण इलाके हैं जहां पर मरीजों को इलाज के लिए कोसों दूर चल कर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचना पड़ता है। इसी समस्या को दूर करने के लिए अब किसी भी बीमारी से संबंधित मरीज सीधे तौर पर ऑनलाइन के माध्यम से जुड़कर डॉक्टर से सलाह लेंगे और डॉक्टर द्वारा ऑनलाइन के माध्यम से ही संबंधित रोगियों को दवा बतायी जाएगी। उसके बाद सम्बंधित केंद्र से ही मरीजों को मुफ्त में दवा उपलब्ध करा दी जाएगी।