गोपालगंज: उचकागांव के पत्रकार से भू माफियाओं ने मांगी पांच लाख की रंगदारी

0
  • मारपीट कर पचास हजार रुपया भी लुटा
  • पत्रकार ने मीरगंज थाना में दर्ज करवाई प्राथमिकी

गोपालगंज: उचकागांव के हिंदुस्तान के संवाददाता सोमेश्वर तिवारी से भू माफियाओं ने उस समय मारपीट कर रुपया लूटा जब वे मीरगंज में खरीदे हुए जमीन पर चल रहे निर्माण कार्य देखने गए। पत्रकार पर जानलेवा हमला कर पचास हजार की लूट के साथ साथ पांच लाख रुपये की रंगदारी की मांग भी किया। रंगदारी नहीं देने पर माफियाओं ने पूरे परिवार के साथ उड़ाने की धमकी भी दिया। पीड़ित पत्रकार ने मीरगंज थाना में आवेदन देकर हरखौली निवासी व स्व लक्ष्मण चौधरी के पुत्र प्रभुनाथ यादव, आनंद यादव, पनमहँस यादव व छः अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज करवाया है। थाना में दिए गए आवेदन में पीड़ित पत्रकार ने बताया है कि मीरगंज स्टेशन रोड में साढ़े आठ धुर जमीन खरीदकर मकान बना रहे थे। जो पिछले दो माह से चल रहा है। तभी हरखौली गांव निवासी प्रभुनाथ यादव, आनद यादव, परमहंस यादव सहित आधादर्जन लोग पहुंचकर मारपीट व गाली गलौज करने लगे। इसी क्रम में आरोपितों द्वारा ठीकेदार को देने के लिए रखे गए पचास हजार रुपया लूट ली गई।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

साथ ही कार्य कर रहे मजदूर को बेरहमी से मारपीट कर घायल कर दिया गया। वही इन आरोपितों द्वारा पत्रकार से यह भी कहा गया कि जबतक पाँचलाख रुपया की रंगदारी नहीं दोगो तबतक एक भी इट नहीं रखने देंगे। यहां हमलोगों की चलती है।सभी हमलवार हथियार से लैस थे। पीड़ित पत्रकार ने बताया कि पूर्व में भी प्रभुनाथ यादव और आनंद यादव द्वारा जान मारने की धमकी दी गई है। साथ ही रंगदारी की मांग भी की गई। जिसकी सूचना मीरगंज थाना को दी गई। यह विदित हो कि मीरगंज में भू माफियाओं की इतनी चलती है कि कहीं भी जमीन खरीदने अब मुश्किल हो गया है। माफियाओं की नीयत में रंगदारी, जबरन जमीन पर कब्जा जमाना, लोगों को धमकाना आदि से लेकर मारपीट भी करने लगे है। वैसे पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। यह बता दें कि इसी दिन अपराधियों ने एक न्यूज पोटल के पत्रकार को गोली मारकर घायल कर दिया। जिसका इलाज लखनऊ मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। यह दूसरी घटना है जब पत्रकार पर हमला किया गया। परन्तु पुलिस ने अबतक करवाई तक नहीं किया।