इंपैक्ट: लोगों ने माना, रैपिड एंटीजन किट से कोरोना की जांच हुई आसान

0
  • अब कोविड-19 की जांच के लिए दूर-दराज जाना नहीं पड़ता
  • पंचायत स्तर पर कैंप लगाकर हो रही है कोरोना की जांच
  • आसानी से मिल रही है जांच रिपोर्ट

छपरा: जैसे-जैसे जिले कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते गये, वैसे-वैसे जिले में जांच का दायरा भी बढ़ता गया। हाल यह है कि अब जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से तेजी से जांच होने लगी है। यही कारण है कि अब कोविड-19 के जांच के लिए लोगों को दूर-दराज कहीं जाना नहीं पड़ रहा है, बल्कि आसानी से अपने नजदीकी किसी भी स्वास्थ्य केंद्र में जांच करा रहे हैं। इससे आम जनता को काफी सहुलियत हुई है। यह जांच मरीजों के लिए सभी स्वास्थ्य संस्थानों पर पूरी तरह से नि:शुल्क है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते स्तर को देखते हुए सरकार ने सभी सरकारी अस्पतालों में रैपिड एंटीजन कीट के माध्यम से जांच के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य केंद्र में सैम्पल कलेक्ट करने और उसकी जांच करने को लेकर दो स्वास्थकर्मी पीपीई किट में मुस्तैद रहकर तमाम सावधानियों के साथ सैम्पल कलेक्ट करते हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

जांच के लिए दूर-दराज नहीं जाना पड़ता

रिविलगंज प्रखंड के कचनार निवासी डॉ. बीएन यादव कहते हैं कि पहले कोरोना के जांच के लिए काफी परेशानी होती थी। जांच के लिए छपरा सदर अस्पताल जाना पड़ता था। वहां सैंपल लेकर पटना भेजा जाता था। रिपोर्ट आने में एक सप्ताह से अधिक समय लग जाता था। लेकिन अब कोरोना की जांच में तेजी आयी है और आसानी से जांच हो रही है। रैपिड एंटिजन किट से आधा घंटे में ही रिपोर्ट का पता चल जा रहा है। इससे काफी सहुलियत हो रही है। सरकार की इस पहल से कोरोना संक्रमण के प्रसार पर रोक लगाना संभव हो सकेगा।

आसानी से मिल रही है जांच रिपोर्ट

छपरा शहर के ब्रहम्पुर निवासी इंद्रजीत कुमार का कहना है कि रैपिड एंटिजन किट से कोरोना जांच रिपोर्ट में तेजी आयी है और जांच रिपोर्ट भी समय से मिल रही है। जिससे लोगों को पता चल रहा है कि कौन पॉजिटिव है कौन निगेटिव। रिपोर्ट जल्द मिलने लोगों को सहुलियत हो रही है और जो पॉजिटिव है वह तुरंत चिकित्सीय परामर्श के अनुसार आईसोलेट हो रहे है। जिससे संक्रमण के प्रसार पर रोक लग रहा है। वहीं आरटी-पीसीआर में रिजल्ट आने में 6 से 24 घंटे लग जाते हैं। तब तक तो संक्रमित व्यक्ति को पता नहीं होता कि वो पॉजिटिव है और वो कई लोगों के संपर्क में आ चुका होता है। रैपिड एंटीजन में आधे घंटे के अंदर ही रिपोर्ट सामने आ जाती है, ऐसे में शख्स को तुरंत आइसोलेट किया जा सकता है।

पंचायत स्तर पर हो रही है जांच

मोहब्बत परसा पंचायत के मुखिया रेखा मिश्रा ने बताया अब तो पंचायत स्तर पर भी कैंप लगाकर कोरोना की जांच की जा रही है। जिससे ग्रामीणों को अब दूर नहीं जाना पड़ रहा है। इसको लेकर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। वह खुद गांव-गांव में ग्रामीणों को इसके प्रति जागरूक भी कर रही हैं। यह जानकारी दे रहीं है कि अगर कोई लक्षण दिख रहा है तो तुरंत जाकर अपना जांच करा लें। ताकि अपना और अपना परिवार की सुरक्षा खुद कर सकें। लोगों में इसके प्रति जागरूकता भी आयी है तथा कैंप में पहुंचकर अपना जांच खुद करा रहें है।