कुछ ही दिनों में अपनी बेटी के हाथ पीले करने वाला था राजकुमार, पढ़ें कैसे मातम में बदलीं खुशियां

0

गोपालगंजः बिहार के गोपालगंज में जहीरीली शराब से घर उजर गए हैं. पछताने के अलावा किसी के पास कुछ नहीं है. किसी के घर में शादी है तो किसी के घर में खुशियों की कोई और वजह, लेकिन जहरीली शराब ने सब बर्बाद कर दिया है. शराब पीने के बाद जिन लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है, उनके मरने का सिलसिला जारी है. मोतिहारी के अस्पताल में भर्ती महम्मदपुर थाने के महम्मदपुर गांव के रहनेवाले मुक्तानंद मिश्रा के 40 वर्षीय पुत्र राजकुमार मिश्रा पांचवें दिन जिंदगी से जंग हार गए. शनिवार को शव महम्मदपुर गांव में पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

राजकुमार की पत्नी माथा पीट-पीटकर रो रही थी. बताया जाता है कि राजकुमार मिश्रा की बड़ी बेटी चंदा कुमारी की शादी हो चुकी है, जबकि खुशबू और मुस्कान की पढ़ाई चल रही है. अगले साल की लगन में खुशबू की शादी करने के लिए तैयारी चल रही थी, इस बीच शराब ने घर की खुशहाली छीन ली. सबसे छोटा पुत्र प्रिंस कुमार 10वीं का छात्र है. परिवार में एकमात्र कमाई का जरिया राजकुमार मिश्रा ही थे.

परिजनों ने बताया कि दो नवंबर को शराब पीने के बाद उनकी हालत बिगड़ने लगी. त्योहार छोड़ परिवार के सभी लोग इलाज कराने में जुट गए. महम्मदपुर से उन्हें डॉक्टरों ने रेफर कर दिया. मोतिहारी के अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान शनिवार को मौत होने की खबर आई. पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को दाह-संस्कार के लिए शव को सौंप दिया.

बता दें कि गोपालगंज के महम्मदपुर गांव में कोहराम मचा है. 21 मौतों के बाद गांव में सन्नाटा पसरा है. अभी भी कई घरों में महिलाएं बिलख रही हैं. अभी भी कई लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. हालांकि इस मामले में लगातार कार्रवाई जारी है. पुलिस जांच करने के साथ-साथ छापेमारी भी कर रही है.