नगर पुलिस की निष्क्रियता : सिवान में जिला अधिवक्ता कक्ष संख्या 2 का जंगला तोड़ अज्ञात चोरों ने की बहुमूल्य कागजात की चोरी, पुलिस बेखबर

0
  • जिला सत्र न्यायधीश के बाउंड्री फांदकर चोरों ने दिया घटना को अंजाम
  • अधिवक्ता संघ के कई वरीय अधिवक्ताओं ने स्थानीय पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

परवेज अख्तर/सिवान:
नगर थाना क्षेत्र में इन दिनों चोरी की घटनाओं को लेकर आम से खास तक के लोग दहशत में हैं। इसके बावजूद स्थानीय पुलिस शहर में सक्रिय चोरों के विरुद्ध कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। जिसके चलते शहर में सक्रिय चोरों के फन दिन पे दिन उठते जा रहा हैं। आए दिन कहीं न कहीं सक्रिय चोर दुकान तथा मकानों का ताला तोड़ घटना को खुलेआम अंजाम दे रहे हैं। सक्रिय चोरों पर आश्चर्य तो तब हुई कि जब रविवार की रात्रि जिला सत्र न्यायधीश के न्यायालय से सटे पश्चिमी बाउंड्री को फांदकर जिला अधिवक्ता संघ के कक्ष संख्या 2 का जंगला तोड़कर अज्ञात चोरों द्वारा रूम में रखे बहुमूल्य  कागजातों की चोरी कर ली है। घटना को अंजाम देने के बाद चोर आसानी से पुनः तोड़े हुए उसी जंगले के रास्ते से निकल कर फरार हो गए हैं।घटनास्थल को देखने से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जिला अधिवक्ता संघ के कक्ष संख्या 2 में किसी चोर या अपराधी छवि वाले व्यक्ति का न्यायालय में लंबित मामलों का फाइल रखा होगा। उसी फाइल को गायब करने के उद्देश्य से चोरों द्वारा ऐसी घटना को अंजाम दी गई है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

उधर इस घटना को लेकर न्यायालय कर्मी द्वारा इसकी लिखित शिकायत स्थानीय नगर थाना को दी गई है। इसके बावजूद पुलिस न तो घटनास्थल का मुआयना कर सकी और न ही इस पर कोई संज्ञान लिया। उधर स्थानीय पुलिस द्वारा इतनी बड़ी शिथिलता बरतने को लेकर जिला अधिवक्ता संघ के कक्ष संख्या 2 के वरीय अधिवक्ता रघुवर सिंह, विजय कुमार तिवारी, प्रदीप कुमार मिश्रा, मुन्ना सिंह, चंद्र किशोर नाथ तिवारी, सुनील कुमार सिंह तथा कामेश्वर तिवारी ने स्थानीय पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाया है। साथ हीं उपरोक्त अधिवक्तागणों ने वरीय पुलिस पदाधिकारी को नगर थाना पुलिस के प्रति बरती जा रही निष्क्रियता को लेकर कार्रवाई की मांग की है। वहीं न्यायालय में चोरी कर बहुमूल्य कागजातों को गायब किए जाने की घटना को लेकर पूरे सोमवार न्यायालय परिसर में एक चर्चा का विषय बना रहा। लोग इस चोरी की घटना को लेकर कई तरह की चर्चाएं करने से बाज नहीं आ रहे थे।