18 वर्ष से ऊपर के लोगों का कोविन प्लेटफार्म और आरोग्य सेतु एप से शुरू हुआ पंजीकरण

0
  • टीकाकरण के पहले डोज़ के लिए अनिवार्य रूप से कराना पड़ेगा पंजीकरण
  • कोरोना का टीकाकरण कराने से पहले कोविड-19 जांच कराना ज़रूरी
  • ज़िले में अभी तक 292542 लोगों का कराया जा चुका है टीकाकरण

छपरा: वैश्विक महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच आगामी 01 मई से शुरू होने वाले कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शत प्रतिशत सफलता के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से आवश्यक तैयारियों में जुट गया है। इस चरण में 18 वर्ष से ऊपर के सभी महिला व पुरुषों को कोरोना का टीकाकरण कराया जायेगा। ऐसे लोगों को चिह्नित करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। अभियान शुरू होने के साथ ही इस आयु वर्ग के दायरे वाले बीमार एवं सामान्य तरह के सभी लोगों को पिछले चरण की तरह ही इस बार भी पंजीकरण कराने के बाद टीका देने का कार्य शुरू हो जाएगा। मालूम हो कोरोना का टीकाकरण 16 जनवरी से शुरू किया गया था। अब आगामी 01 मई से 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। कोविड-19 टीकाकरण की पहली खुराक लेने से पहले सभी को ऑनलाइन पंजीकरण कराना होता है। जिसके लिए आरोग्य सेतु एवं कोविन एप के माध्यम से पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। कोविन साइट के लिए कोई एप नहीं है और पंजीकरण केवल वेबसाइट के द्वारा ही की जा सकती है। उसके लिए कोविन प्लेटफार्म और आरोग्य सेतु एप पर कल से ही पंजीकरण की शुरुआत हो गई है। इसके लिए युवा वर्ग खुद ही अपने एंड्रॉयड मोबाइल फोन से कोविन (CoWIN) पोर्टल पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

टीकाकरण के पहले डोज़ के लिए अनिवार्य रूप से कराना पड़ेगा पंजीकरण: डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार

सिविल सर्जन डॉ जेपी सुकुमार ने बताया आगामी 01 मई से 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को कोविड-19 टीकाकरण अभियान के शुरू होने से पहले अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराना होगा। उसके बाद ही कोरोना का टीका लगाया जाएगा। पंजीकरण के समय आधार कार्ड एवं मोबाइल नंबर अपने पास अनिवार्य रूप से रखना पड़ेगा तभी उसका पंजीकरण किया जाएगा। वहीं टीकाकरण अभियान को सफल बनाने के लिए लगभग सभी तरह की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जिसके लिए ज़िला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल के अलावा जिले के सभी अनुमंडलीय अस्पताल, रेफ़रल अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व शहरी स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को आवश्यक रूप से दिशा-निर्देश दिए जा चुके हैं। ताकि इस अभियान के दौरान किसी भी प्रकार की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। क्योंकि 18 वर्ष से ऊपर वालों के टीकाकरण अभियान के समय सभी तरह के टीकाकरण केंद्रों पर अनुमान से ज़्यादा भीड़ होने की उम्मीद हैं।

कोरोना का टीकाकरण कराने से पहले कोविड-19 जांच कराना है ज़रूरी: सीए

सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने बताया कोविड-19 से बचाव के लिए टीकाकरण कराना बहुत ज़्यादा जरूरी है लेकिन इसके पहले कोरोना जांच कराना उससे भी ज़्यादा जरूरी है। क्योंकि आपकी सुरक्षा हम सभी की जिम्मेदारी है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से टीके लगाने के बाद किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न नहीं हो इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से टीके लगाने से पहले जांच कराना अनिवार्य माना जा रहा है। जिसके लिए ज़िले के सभी सरकारी अस्पताल एवं निजी अस्पतालों में जहां टीकाकरण कार्य किया जा रहा है वहां पर कोरोना जांच की भी व्यवस्था की गई है। ताकि सभी लोग खुद को सुरक्षित महसूस करते हुए टीकाकरण कराने के बाद वैश्विक महामारी कोविड-19 को मात दिया जा सके।

ज़िले में अभी तक 292542 लोगों को कराया जा चुका है टीकाकरण: डीपीएम

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी अरविंद कुमार ने बताया विगत 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की सफलता को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा समय-समय पर आमलोगों को कोरोना टीकाकरण के प्रति जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। ताकि आमलोगों के मन में वैक्सीन को लेकर किसी प्रकार की दुविधा या अन्य तरह की कोई भ्रम नहीं रहे। वैश्विक महामारी कोविड-19 के बचाव को लेकर जिले के 2, 55, 403 व्यक्तियों को प्रथम डोज़ एवं 37, 139 व्यक्तियों को टीकाकरण का दूसरा डोज दिया जा चुका हैं। आगामी 01 मई से 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को टीके लगाने का कार्य शुरू होने के बाद जिले में चल रहे वैक्सीनेशन अभियान की रफ्तार में काफ़ी तेजी आएगी। जिससे निर्धारित समय पर लक्ष्य की प्राप्ति शत प्रतिशत पूरा किया जा सकता है। इसके साथ ही इस महामारी को जड़ से मिटाने के लिए हम सभी को एक जुट होकर लड़ने की जरूरत है।