सीएस ने दिया निर्देश: गंभीर श्वसन एवं इन्फ्लुएंजा जैसे लक्षण वाले मरीजों को सदर अस्पताल में करें रेफर

0
cs

जिला स्वास्थ्य समिति के कंट्रोल में दें सूचना

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
adssssssss
a2

निजी अस्पतालों से भी सहयोग की अपील

आईएमए के डॉक्टर भी करेंगे सहयोग

कोविड-19 के प्रसार को रोकने में होगी आसानी

छपरा : वैश्विक महामारी कोरोनावायरस को हराने के लिए जिले में कई अहम कदम उठाये जा रहे हैं। इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक और अहम फैसला लिया गया है। अब जिले में गंभीर श्वसन रोगियों एवं इन्फ्लुएंजा जैसे रोगों से पीड़ित लोगों की निगरानी का की जाएगी। इसको लेकर सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने सदर अस्पताल के उपाधीक्षक समेत सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों पत्र लिखकर निर्देश दिया है कि अपने क्षेत्र में आने वाले गंभीर श्वसन रोग एवं इन्फ्लुएंजा जैसे लक्षण वाले मरीजों को सदर अस्पताल में अवश्य रेफर करें ताकि कोरोना संक्रमण के फैलाव पर निगरानी की जा सके। साथ ही इसमें निजी अस्पतालों को भी सहयोग करने की अपील की गयी है।

जिला स्वास्थ समिति के नियंत्रण कक्ष में दें सूचना

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने सभी सरकारी एवं गैर सरकारी आईएमएसए संबंध चिकित्सकों से अपील की है कि आपके क्लीनिक, नर्सिंग होम या निजी अस्पताल में ऐसे मरीज आते हैं तो उन्हें सदर अस्पताल में अवश्य रेफर करें। साथ ही उन्होंने अपील की है कि ऐसे मरीजों की सूचना जिला स्वास्थ समिति में बने नियंत्रण कक्ष के फोन 061 52- 2448 12 पर दे सकते हैं। फोन पर मरीज का नाम, पिता-पति का नाम, उम्र, लिंग, मोबाइल नंबर, लक्षण आदि की सूचना देनी होगी।

कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने में होगा सहायक

सिविल सर्जन ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण के प्रसार पर लगाम लगाने के लिए गंभीर श्वसन रोगियों एवं इन्फ्लुएंजा जैसे रोगों से पीड़ित लोगों की निगरानी की जरूरत है। आपका सहयोग करोना संक्रमण के प्रसार को रोकने में कारगर साबित होगा।

इन्फ्लुएंजा लाइक इलनेस को जानें

•  38 डिग्री सेल्सियस से अधिक शारीरिक तापमान
•  खाँसी
• पिछले 10 दिनों से लक्षण का आना

सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इलनेस को जाने, गंभीर श्वसन संक्रमण के साथ

•  38 डिग्री सेल्सियस से अधिक शारीरिक तापमान की हिस्ट्री
•  खाँसी
•  पिछले 10 दिनों से लक्षण का आना
•  अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत हो