सारण के दो शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में विजन सेंटर की होगी स्थापना

0
  • अब आंखों के उपचार के लिए दर-दर नहीं भटकेंगे मरीज
  • राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के तहत मिलेगी सुविधाएं
  • गरीब व स्लम बस्तियों में रहने वाले परिवारों को होगा लाभ

छपरा: आमजनों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए विभाग कृतसंकल्पित है। इसको लेकर विभाग द्वारा कई कल्याणकारी योजनाएं चलायी जा रही हैं । अब सारणवासियों के लिए एक अच्छी खबर है। जिले के दो शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में आंखों की उपचार की सुविधा मुहैया करायी जायेगी। दो जगहों पर विजन सेंटर की स्थापना की जायेगी। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में विजन सेंटर की स्थापना की जानी है। राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन का मुख्य उदेश्य शहरी आबादी विशेषकर स्लम बस्तियों रहने वाली एवं वंचित आबादी को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराना है। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर विभिन्न स्वास्थ्य सुविधाओं में बढोतरी के लिए लाभार्थियों को अधिकतम लाभ प्रदान किया जा सकता है। इसी उद्देश्य से शहर के बड़ा तेलपा और मासूमगंज में विजन सेंटर की स्थापना की जायेगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

सभी जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का निर्देश

विजन सेंटर में स्ट्रीक रेटनोस्कोप, डाइरेक्ट ओप्थाल्मोस्कोप, विजन ड्रम, ट्रायल बॉक्स, नियर डिस्टेंस चार्ट, टेबल, कुर्सी समेत अन्य जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है।

अप्टोमैट्रिस्ट व अप्थाल्मिक सहायक की होगी प्रतिनियुक्ति

शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में स्थापित विजन सेंटर में मरीजों के उपचार के लिए विभाग द्वारा अप्टोमैट्रिस्ट व अप्थाल्मिक सहायक की प्रतिनियुक्ति की जायेगी। प्रतिनियुक्त कर्मियों को राज्य स्तर पर प्रशिक्षण दिया जायेगा। जिले में कार्यरत अप्टोमैट्रिस्ट एवं अप्थाल्मिक सहायक की प्रतिनियुक्ति शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर सप्ताह में कम से कम एक दिन के लिए होगी।

मरीजों को मिलेगी ये सुविधा

जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीसी रमेश चंद्र कुमार ने बताया कि विजन सेंटर में मरीजों को बेहतर सुविधा मुहैया करायी जायेगी। यहां पर प्राथमिक आंख जांच, रिफ्रेक्शन डीजिज आइडेंटिफिकेशन, कैटरैक्ट स्क्रिनिंग एवं व रेफरल की सुविधा उपलब्ध होगी। चिह्नित मरीजों की सूची तैयार की जायेगी । प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के सहयोग से समयानुसार ऑपरेशन के लिए रेफर किया जायेगा।