कोरोना को मात देने में जीविका दीदी कर रहीं सहयोग

0
jivika

मास्क बनाने के साथ लोगों को संक्रमण से बचाव की दे रहीं है जानकारी

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

जिले के सभी प्रखंडों में जीविका दीदी बना रहीं मास्क

अभी तक 835 गरीब परिवारों को घरेलू जरूत के लिए दे चुकी हैं मदद

लखीसराय: एक तरफ़ जहाँ कोरोना की दंश से देश परेशान है, वहीँ दूसरी तरफ़ इस लड़ाई को आसान बनाने के लिए पुरुषों के साथ महिलाएं भी निकलकर सामने आ रही हैं. नारी सशक्तिकरण का परिणाम अब यह है कि इसका फायदा समाज के एक बड़े हिस्से को मिल रहा है. अब इस सशिक्तकरण का विस्तार एक समूह से निकलकर समुदाय के बीच सेवा रूप में तब्दील हो रहा है. इसका उदाहरण जीविका समूह की महिलाएं हैं जिन्होंने अपने लिए न सिर्फ आर्थिक स्वावलंबन हासिल किया है, बल्कि अब वे समाज को भी स्वस्थ्य और मजबूत बनाने की दिशा में काम कर रही है. कोरोना वायरस संक्रमण के इस संकटकाल में जीविका दीदी दिन-रात कार्य में जुट कर लोगों के लिए मास्क तैयार कर रही हैं. कभी ख़ुद को सशक्त करने के उद्देश्य से समूहों से जुड़ी ये जीविका दीदियाँ अब दूसरों के लिए मास्क बनाकर उनके स्वास्थ्य को सशक्त कर रही हैं.

स्वास्थ्य विभाग को मुहैया करा रही हैं मास्क

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम को देखते हुए जीविका समूह की दीदी मास्क बनाने में जुटी हैं. जिले के सभी 7 प्रखंडों के विभिन्न पंचायतों में जीविका दीदी के सहयोग से मास्क बनाये जा रहे हैं. जिसमें अभी तक 4885 मास्क का उत्पादन किया जा चुका है. इस काम में समूह की 38 महिलाएं शामिल हैं. यहीं नहीं जीविका दीदी फोन के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को मास्क बनाने की विधि भी बता रहीं है. साथ ही समूह की महिलाओं की ओर से 835 अत्यंत गरीब परिवारों को घरेलु आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए 2 हज़ार की आर्थिक मदद भी पहुंचायी गयी है.

jivika didi

फोन कर संक्रमण से बचाव की दे रहीं जानकारी

जीविका की जिला परियोजना प्रबंधक अनीता कुमारी ने बताया सामुदायिक स्तर पर जीविका दीदी समुदाय के लिए मास्क बनाने के साथ लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में जागरूक कर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी निभा रही हैं. ये लोगों को हाथों की नियमित धुलाई, बदलते मौसम में खानपान पर विशेष ध्यान, खांसते या छींकते समय मुंह व नाक पर कपड़ा रखने, सामाजिक दूरी के तहत एक मीटर दूरी का पालन करने, मास्क का इस्तेमाल करने, संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान कर इसकी सूचना कंट्रोल रूम में देने, घर लौटे प्रवासी कामगारों को होम क्ववरेंटाइन या क्ववरेंटाइन में रहने आदि से संबंधित जानकारी लोगों को दे रही हैं. इसके अलावा घर की नियमित सफाई, ज्यादा मुलाकात नहीं करने, संदिग्ध या संक्रमित व्यक्ति से दूर रहने व लोगों से घरों से बाहर बेवजह नहीं निकलने की सलाह पर भी चर्चा फोन के माध्यम से कर रही हैं. उन्होंने बताया मास्टर रिसोर्स पर्सन, सामुदायिक उत्प्रेरक द्वारा जीविका दीदियों को फोन कॉल, व्हाट्रसएप व लीफलेट के माध्यम से इस रोग के बारे में जानकारी दी जाती है जिसे वे आमलोगों तक पहुंचाती हैं.

मानकों पर खरे हैं जीविका द्वारा तैयार किये गए मास्क

मास्क की पूर्ति बहाल करने के उद्देश्य से बिहार रूरल लाइवलीहुड प्रोजेक्ट यानी जीविका की महिलाएं दिनरात काम में लगी हैं. राज्य के कई जिलों में मास्क बनाने का काम जीविका दीदी द्वारा किया जा रहा है. कई जगहों पर काम शुरू करने की भी योजना बनायी गयी है. राज्य में कई समूहों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से मास्क बनाने का सीधा आर्डर मिला रहा है. इसके बदले स्वास्थ्य विभाग इन महिला समूहों को पैसे का भुगतान करेगा जिससे इन महिलाओं को समूह की आर्थिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने में भी मदद मिलेगी. जीविका दीदी के कामों की कुशलता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कपड़ा काटने से लेकर मास्क बनाने और इसकी पैकजिंग करते तक उसे भली-भांति साफ व सेनिटाइज्ड रखा जाता है. ये फेस मास्क मानकों के आधार पर खरे हैं.