बिहार में भगवान बने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, दो साल से मंदिर बनाकर हो रही पूजा

0
bhagwan narendra modi

न्यूज़ डेस्क : यूं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश और विदेश में करोड़ों फैन है। लेकिन, बिहार में एक ऐसा गांव हैं जहां हर घर में उनका भक्त है। इस गांव में दो साल पहले गांव में मोदी मंदिर का निर्माण कराया गया है। यहां पर गांव के सभी लोग सुबह-शाम पूजा-पाठ और आरती करते हैं। कटिहार के आजमनगर प्रखंड के आनंदपुर गांव के लोगों ने मंदिर में प्रधानमंत्री की प्रतिमा भी स्थापित की है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

PM मोदी को मानते हैं विकास का देवता

आनंदपुर गांव के लोग प्रधानमंत्री को विकास का देवता मानते हैं। इसी से प्रभावित होकर लोगों ने पीएम मोदी के मंदिर की स्थापना की है। यह मंदिर गांव के बजरंबली मंदिर के ठीक बगल में है। मंदिर के निर्माण के लिए पूरे गांव से चंदा एकत्र किया गया था।

जन्मदिन पर उत्सव सा रहता है माहौल

प्रधानमंत्री का जन्मदिन यानि 17 सितंबर को आनंदपुर गांव में उत्सव सा माहौल रहता है। मोदी के जन्मदिन को लेकर मंदिर को आकर्षक तरीके से सजाया जाता है। हर घर में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। साथ ही पूरे गांव की सड़कों आदि की साफ-सफाई की जाती है। यानी गांव में स्वच्छता अभियान भी चलाया जाता है।

ग्रामीणों ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी के राज में बदल गया गांव का भाग्य

मोदी के प्रति इस गांव के लोगों की दीवानगी के पीछे एक दर्दभरी दास्तान भी है। बंगाल से सटे सीमांचल के इस गांव के लोगों को आजादी के सात दशक तक तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा। गांव जाने के लिए पक्की सड़क तक नहीं थी। लेकिन, अब यहां पर पक्की सड़क, बिजली, पानी सहित अन्य सुविधाएं हैं। लोगों का मानना है कि यह सब मोदी के सत्ता में आने के बाद भी संभव हो पाया है।

मंदिर को भव्य रूप देने की हो रही तैयार

ग्रामीण मनोज कुमार साह बताते हैं कि अभी जैसे-तैसे मोदी जी की प्रतिमा को रखकर पूजा-पाठ किया जा रहा है। जल्द ही यहां पर भव्य मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। इसके लिए पहल की जा रही है। कुछ दिनों के अंदर मंदिर निर्माण को लेकर बैठक भी बुलाई गई है।

प्रधानमंत्री के आने की आस

पंचायत के मुखिया ललन विश्वास कहते है की लगभग दो सौ घर वाले इस गांव के लोग प्रधानमंत्री को भगवान मानते हैं। इसलिए वे लोग चाहते हैं कि एक बार प्रधानमंत्री इस गांव का भ्रमण करें।